News


Acharya Lokesh will address Asia Pacific International Conference in Nepal Heads of 8 Countries and MPs from 40 Countries will take part Spiritual and Political Leaders should come together to solve Global Challenges - Acharya Lokesh

28-11-2018

New Delhi: Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni will address Asia Pacific Summit 2018, as Guest Speaker organised by Universal Peace Federation (UPF) in Kathmandu city of Nepal. In the conference 8 Heads of State and Government, Member of Parliament of 40 Countries and more than 2500 representatives will take part. In the international conference ‘Addressing the Critical Challenges of Our Time: Interdependence, Mutual Prosperity and Universal Values’ discussions on important issues such as climate change, peace and development, good governance, conflict resolution strengthening family with a focus to support the United Nations’ Sustainable Goals will be held. Acharya Lokesh Muni addressing reporters in the Karol Bagh Ashram before his departure to Kathmandu Acharya Lokesh Muni said that he will address the session ‘Addressing the Critical Challenges of Our Time: Role of Faith based organisation’. He said that religious and social organizations have significant contribution in addressing the current global challenges. The Asia Pacific Conference will be a historic conference in which many heads of state, ministers, MPs, religious leaders, social workers will discuss sustainable development. The spiritual and political leaders should come together for sustainable development. Universal Peace Federation holds consultative status with the United Nations Economic and Social Council. It is noteworthy that Acharya Lokes has recently addressed Parliament of World’s Religions 2018 organised in the Toronto city of Canada, International Day of Yoga at United Nations Headquarters, Interfaith Conferences in USA, Europe, Singapore and Malaysia.

आचार्य लोकेश एशिया पेसिफिक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को नेपाल में संबोधित करेंगे सम्मेलन मे आठ देशों के राष्ट्राध्यक्षों सहित 40 देशों के सांसद भाग लेंगे वैश्विक चुनौतियां का समाधान के लिए आध्यात्मिक व राजनैतिक प्रतिनिधि एकजुट हों – आचार्य लोकेश

नई दिल्ली: अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक प्रख्यात जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि नेपाल के काठमांडू शहर में यूनिवर्सल पीस फेडेरेशन (यूपीएफ) द्वारा आयोजित एशिया पेसिफिक सम्मेलन 2018 को विशिष्ठ अतिथि के रूप में संबोधित करेंगे | सम्मेलन में आठ देशों के राष्ट्राध्यक्ष, 40 देशों के सांसद एवं 2500 से ज्यादा प्रतिनिधि भाग लेंगे | अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन ‘वर्तमान चुनौतियां का समाधान : परस्पर निर्भरता, समृद्धि और सार्वभौमिक मूल्य’ 30 नवंबर से 3 दिसम्बर तक चलेगा जिसके विभिन्न सत्रों में जलवायु परिवर्तन, शांति और विकास, सुशासन, सदृढ़ परिवार आदि विषयों पर चर्चा होगी | नेपाल सरकार के सहयोग से आयोजित सम्मेलन संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास के लक्ष्यों की ओर अग्रसर होना है | शांतिदूत आचार्य लोकेश मुनि ने काठमांडू प्रस्थान से पूर्व करोल बाग स्थित आश्रम में संवाददाताओं को संबोधित करते हुये बताया कि वो ‘वर्तमान चुनौतियां के समाधान मे धार्मिक संगठनों का योगदान’ विषय को संबोधित करेंगे | उन्होने कहा कि धार्मिक व सामाजिक संगठनों का वर्तमान वैश्विक चुनौतियां के समाधान मे महत्वपूर्ण योगदान है | एशिया पेसिफिक सम्मेलन एक ऐतिहासिक सम्मेलन होगा जिसमें अनेक देशों के राष्ट्राध्यक्ष, मंत्री, सांसद, धार्मिक गुरु, समाज सेवी सतत विकास पर चर्चा करेंगे | आध्यात्मिक और राजनैतिक प्रतिनिधि एकजुट होंगे तभी समाज का सतत विकास संभव है | यूनिवर्सल पीस फेडेरेशन को संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद में सलाहकार का दर्जा प्राप्त है | उल्लेखनीय है कि आचार्य लोकेश हाल मे ही टोरंटो कनाडा मे आयोजित विश्व धर्म संसद को, संयुक्त राष्ट्र संघ मे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, अमेरिका, यूरोप, सिंगापूर व मलेशिया मे अनेक अंतरधार्मिक सम्मेलनों को संबोधित किया |


Acharya Lokesh made history by addressing three sessions in POWR Canada Jain Paryushan Parv discussion was held by Acharya Lokesh at POWR Many Global Problems can be solved by adopting Jain Philosophy - Acharya Lokesh

06-11-2018

Ambassador of Peace Jain Acharya Dr. Lokesh Muni made history by addressing three sessions at Parliament of World’s Religion (POWR) organized at Toronto city of Canada. Acharya Lokesh on one hand discussed Jain Festival Paryushan Parv on international platform he also talked about how by adopting Jain philosophy many global problems can be solved. Acharya Lokesh delivered speech on ‘Peace & Love, Not War, Hate & Violence’, ‘Global Warming and Depleting Natural Resources’, ‘Paryushan Parv : The Spiritual Evolution of Humanity & Healing our Mother Earth’. Swami Bhrameshwaranand Ji, Bhai Saheb Mohinder Singh Ji, BK Binni Saren Ji, Sadhvi Shilpi Ji, Bhattarak Charukirtiji, Dr Hema Pokharna told how this festival will uplift humanity. They said it is a matter of honor for India that by discussing these issues Acharya Lokesh will bring pride to Indian culture and Jainism. Acharya Lokesh talking about ‘Peace & Love, Not War, Hate & Violence’ said that Jain philosophy of Non-Violence, Peace and Harmony is more contemporary for humanity when people are faced with many problems like violence, global warming, income inequality and many more. Jainism based on Bhagwan Mahavir Philosophy is recognized by science also. Following lifestyle shown by Jainism we can build healthy, prosperous and happy society. . Peace is necessary for development; interfaith dialogue can establish world peace. Acharya Lokesh talking about ‘‘Global Warming and Depleting Natural Resources’ said Jainism is one of the most environmentally conscious religions in the world. Mahavira’s doctrine of Shatjivanikay talks about how to protect nature and natural resources. Jain Agams depicts nature in a unique way as it says that five elements of nature Prithvi (land, soil, stones etc), Jal (water resources including cloud), Agni (Fire), Vayu (Air) and Aakash (Sky) are living creatures and must be treated as living beings. These five types of elements go on to form five classes of beings such as vegetation, trees and plants, fungi and animals. This unique concept of Jainism restricts its followers to harm any creature and eventually leads to limited consumption as well as help in protecting environment. Acharya Lokesh discussing Paryshan Parv said that Paryushan Mahaparv is a unique festival of spiritual development and upliftment of human values. The celebration of this festival the purpose of the spiritual development, upliftment of human values and environmental protection can easily be achieved. With the celebration of this Jain festivals Paryushan/ Daslakshan Mahaparv, millions of people in the country and abroad impart their souls through various experiments of forgiveness, friendship, compassion, nonviolence, peace, harmony, which naturally destroys the negative thinking within the person, positive thinking, constructive contemplation is created. When positive thinking arises, the feeling of anger, egoism, greed and delusion (difference between saying and doing) within the person is destroyed, thus the person's soul becomes intuitive, simple, pure and calm; this is the base for the incarnation of Spirituality. When the manifestation of spirituality within a person is raised, the distinction between the self and others ends; the person rises above selfishness and contemplates the altruistic and the divine. Talking about forgiveness Acharya Lokesh said that the last day of the Paryushan Parv ends with Samvatsari or Forgiveness Day. On this day, the followers ask for forgiveness from others for the mistakes done knowingly or unknowingly by them during previous year. Forgiveness gives mental peace, happiness to the mind, friendships with the creatures; purification of the soul, fearlessness of personality comes. We forgive those who have done wrong with us and ask forgiveness from those whom we have done wrong. Forgiveness is requested not only from humans, but from all living beings. Forgiving and asking for forgiveness is such a life cycle that teaches us to live in harmony with all creatures. It paves the way for good deeds.

विश्व धर्म संसद में तीन सत्र संबोधित कर आचार्य लोकेश ने रचा इतिहास आचार्य लोकेश ने पर्युषण पर्व पर चर्चा कर विश्व में लहराया जैन धर्म का परचम जैन दर्शन से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव– आचार्य लोकेश

विश्व शांतिदूत जैन आचार्य डॉ लोकेश मुनि ने कनाडा के टोरंटो शहर मे आयोजित विश्व धर्म संसद में तीन समसामयिक विषयों पर चर्चा कर इतिहास रचा | आचार्य लोकेश ने जहां एक ओर जैन समुदाय के पर्युषण पर्व पर पर चर्चा कर विश्व पटल पर जैन धर्म का परचम लहराया वही इस बात से भी लोगों को अवगत कराया कि किस प्रकार जैन दर्शन को जीवन शैली मे अपनाने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव है | आचार्य लोकेश ने ‘शांति और प्यार: युद्ध, नफरत और हिंसा विहीन विश्व’, ‘ग्लोबल वार्मिंग व प्राकृतिक संसाधनों का हनन’ व ‘पर्युषण पर्व : मानवता का आध्यात्मिक विकास और मां पृथ्वी का संरक्षण’ विषयों पर विश्व धर्म विषयों पर वक्तव्य दिये | आचार्य लोकेश के साथ इस अवसर पर उपस्थित ब्रहमेश्वरानन्द स्वामीजी, साध्वी शिल्पी जी, भट्टारक चारुकीर्ति जी और डा. पोखरन जी ने कहा कि आचार्य लोकेश ने पर्युषण पर्व पर चर्चा कर विश्व कल्याण का मार्ग प्रशस्त किया है और विश्व में जैन धर्म का गौरव बढ़ाया है | आचार्य लोकेश ने शांति और प्यार: युद्ध, नफरत और हिंसा विहीन विश्व’ विषय पर कहा कि विश्व ऐसे समय में जब विश्व को हिंसा, ग्लोबल वार्मिंग, आय असमानता और अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है अहिंसा, शांति और सद्भावना का जैन दर्शन मानवता के लिए अधिक समकालीन है | भगवान महावीर की शिक्षाओं पर आधारित जैन धर्म को विज्ञान द्वारा भी मान्यता प्राप्त है | जैन धर्म मे प्रतिपादित जीवनशैली को अपनाने से हम स्वस्थ, समृद्ध और सुखी समाज का निर्माण कर सकते हैं| विकास के लिए शांति आवश्यक है; अंतरधार्मिक संवाद से विश्व शांति स्थापित कर सकते हैं | आचार्य लोकेश ने ‘ग्लोबल वार्मिंग व प्राकृतिक संसाधनों का हनन’ विषय पर कहा कि जैन धर्म दुनिया में सबसे अधिक पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा करने वाला धर्म है | भगवान महावीर द्वारा प्रतिपादित शतजीवनिकाय सिद्धांत प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा के बारे में बात करता है | जैन आगमों ने प्रकृति को एक अद्वितीय तरीके से दर्शाया है वह कहते है कि प्रकृति के पांच तत्व पृथ्वी (भूमि, मिट्टी, पत्थर आदि), जल (जल संसाधन व बादल ), अग्नि (अग्नि), वायु (वायु) और आकाश (आकाश) जीवित प्राणी हैं इन्हें जीवित प्राणियों की तरह माना जाना चाहिए | ये पांच प्रकार के तत्व वनस्पति, पेड़ और पौधे, पक्षी और जानवरों जैसे पाँच वर्ग के प्राणियों की उत्पत्ति करते हैं | जैन धर्म की अवधारणा अपने अनुयायियों को किसी भी प्राणी को नुकसान पहुंचाने के लिए प्रतिबंधित करती है और अंततः सीमित खपत के साथ-साथ पर्यावरण की सुरक्षा में सहायता भी करती है | आचार्य लोकेश ने पर्युषण पर्व : मानवता का आध्यात्मिक विकास और मां पृथ्वी का संरक्षण’ विषय पर कहा कि पर्युषण महापर्व आध्यात्मिक विकास और मानवीय मूल्यों के उत्थान का अनूठा पर्व है | इस पर्व की आराधना से आध्यात्मिक विकास, मानवीय मूल्यों का उत्थान व पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य की सहज ही प्राप्ति होती है | जैन धर्म के इस आध्यात्मिक पर्युषण/ दसलक्षण महापर्व के दौरान लाखों लोग देश और विदेश में क्षमा, मैत्री करुणा, अहिंसा, शांति, सद्भावना के विविध प्रयोगों के द्वारा अपनी आत्मा को भावित करते हैं, जिससे स्वत: ही व्यक्ति के भीतर की नकारात्मक सोच खत्म होती है तथा सकारात्मक सोच, विधायक चिंतन का भाव पैदा होता है | सकारात्मक सोच उत्पन्न होने से व्यक्ति के भीतर का क्रोध, अहंकार, लोभ और माया (कथनी करनी की असमानता) का भाव नष्ट होता है, इससे व्यक्ति की आत्मा सहज, सरल, निर्मल व शांत बनती है जो कि अध्यात्म के अवतरण का मुख्य आधार है | व्यक्ति के भीतर अध्यात्म का अवतरण होने से स्व और पर की भेदरेखा खत्म होती है , वह स्वार्थ से ऊपर उठकर परार्थ और परमार्थ का चिंतन करता है | आचार्य लोकेश ने क्षमा का महत्व बताते हुये कहा कि पर्युषण पर्व का अंतिम दिन संवतसरी या क्षमावाणी (क्षमा दिवस) के साथ समाप्त होता है। इसके समापन पर, अनुयायी पिछले वर्ष के दौरान जाने अनजाने मे किए गए अपने सभी अपराधों के लिए दूसरों से क्षमा मांगते हैं | क्षमा करने से मानसिक शांति, मन को प्रसन्नता मिलती है, जीवों से मैत्री होती है, आत्मा की शुद्धि होती है, व्यक्तित्व में निर्भयता आती है | हम उन लोगों को क्षमा करते हैं जिन्होंने हमारे साथ गलत किया है और उन लोगों से क्षमा मांगते है जिनके साथ हमने गलत किया है | माफी सिर्फ मनुष्य से ही नहीं, बल्कि सभी जीवित प्राणियों से मांगी जाती है | क्षमा करना और क्षमा मांगना एक ऐसा जीवन चक्र है जो हमे सभी प्राणियों के साथ सद्भावना के साथ रहना सिखाता है | यह उत्तम कर्म का मार्ग प्रशस्त करता है |


Acharya Lokesh made history by addressing three sessions in POWR Canada Jain Paryushan Parv discussion was held by Acharya Lokesh at POWR Many Global Problems can be solved by adopting Jain Philosophy - Acharya Lokesh

06-11-2018

Ambassador of Peace Jain Acharya Dr. Lokesh Muni made history by addressing three sessions at Parliament of World’s Religion (POWR) organized at Toronto city of Canada. Acharya Lokesh on one hand discussed Jain Festival Paryushan Parv on international platform he also talked about how by adopting Jain philosophy many global problems can be solved. Acharya Lokesh delivered speech on ‘Peace & Love, Not War, Hate & Violence’, ‘Global Warming and Depleting Natural Resources’, ‘Paryushan Parv : The Spiritual Evolution of Humanity & Healing our Mother Earth’. Swami Bhrameshwaranand Ji, Bhai Saheb Mohinder Singh Ji, BK Binni Saren Ji, Sadhvi Shilpi Ji, Bhattarak Charukirtiji, Dr Hema Pokharna told how this festival will uplift humanity. They said it is a matter of honor for India that by discussing these issues Acharya Lokesh will bring pride to Indian culture and Jainism. Acharya Lokesh talking about ‘Peace & Love, Not War, Hate & Violence’ said that Jain philosophy of Non-Violence, Peace and Harmony is more contemporary for humanity when people are faced with many problems like violence, global warming, income inequality and many more. Jainism based on Bhagwan Mahavir Philosophy is recognized by science also. Following lifestyle shown by Jainism we can build healthy, prosperous and happy society. . Peace is necessary for development; interfaith dialogue can establish world peace. Acharya Lokesh talking about ‘‘Global Warming and Depleting Natural Resources’ said Jainism is one of the most environmentally conscious religions in the world. Mahavira’s doctrine of Shatjivanikay talks about how to protect nature and natural resources. Jain Agams depicts nature in a unique way as it says that five elements of nature Prithvi (land, soil, stones etc), Jal (water resources including cloud), Agni (Fire), Vayu (Air) and Aakash (Sky) are living creatures and must be treated as living beings. These five types of elements go on to form five classes of beings such as vegetation, trees and plants, fungi and animals. This unique concept of Jainism restricts its followers to harm any creature and eventually leads to limited consumption as well as help in protecting environment. Acharya Lokesh discussing Paryshan Parv said that Paryushan Mahaparv is a unique festival of spiritual development and upliftment of human values. The celebration of this festival the purpose of the spiritual development, upliftment of human values and environmental protection can easily be achieved. With the celebration of this Jain festivals Paryushan/ Daslakshan Mahaparv, millions of people in the country and abroad impart their souls through various experiments of forgiveness, friendship, compassion, nonviolence, peace, harmony, which naturally destroys the negative thinking within the person, positive thinking, constructive contemplation is created. When positive thinking arises, the feeling of anger, egoism, greed and delusion (difference between saying and doing) within the person is destroyed, thus the person's soul becomes intuitive, simple, pure and calm; this is the base for the incarnation of Spirituality. When the manifestation of spirituality within a person is raised, the distinction between the self and others ends; the person rises above selfishness and contemplates the altruistic and the divine. Talking about forgiveness Acharya Lokesh said that the last day of the Paryushan Parv ends with Samvatsari or Forgiveness Day. On this day, the followers ask for forgiveness from others for the mistakes done knowingly or unknowingly by them during previous year. Forgiveness gives mental peace, happiness to the mind, friendships with the creatures; purification of the soul, fearlessness of personality comes. We forgive those who have done wrong with us and ask forgiveness from those whom we have done wrong. Forgiveness is requested not only from humans, but from all living beings. Forgiving and asking for forgiveness is such a life cycle that teaches us to live in harmony with all creatures. It paves the way for good deeds.

विश्व धर्म संसद में तीन सत्र संबोधित कर आचार्य लोकेश ने रचा इतिहास आचार्य लोकेश ने पर्युषण पर्व पर चर्चा कर विश्व में लहराया जैन धर्म का परचम जैन दर्शन से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव– आचार्य लोकेश

विश्व शांतिदूत जैन आचार्य डॉ लोकेश मुनि ने कनाडा के टोरंटो शहर मे आयोजित विश्व धर्म संसद में तीन समसामयिक विषयों पर चर्चा कर इतिहास रचा | आचार्य लोकेश ने जहां एक ओर जैन समुदाय के पर्युषण पर्व पर पर चर्चा कर विश्व पटल पर जैन धर्म का परचम लहराया वही इस बात से भी लोगों को अवगत कराया कि किस प्रकार जैन दर्शन को जीवन शैली मे अपनाने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव है | आचार्य लोकेश ने ‘शांति और प्यार: युद्ध, नफरत और हिंसा विहीन विश्व’, ‘ग्लोबल वार्मिंग व प्राकृतिक संसाधनों का हनन’ व ‘पर्युषण पर्व : मानवता का आध्यात्मिक विकास और मां पृथ्वी का संरक्षण’ विषयों पर विश्व धर्म विषयों पर वक्तव्य दिये | आचार्य लोकेश के साथ इस अवसर पर उपस्थित ब्रहमेश्वरानन्द स्वामीजी, साध्वी शिल्पी जी, भट्टारक चारुकीर्ति जी और डा. पोखरन जी ने कहा कि आचार्य लोकेश ने पर्युषण पर्व पर चर्चा कर विश्व कल्याण का मार्ग प्रशस्त किया है और विश्व में जैन धर्म का गौरव बढ़ाया है | आचार्य लोकेश ने शांति और प्यार: युद्ध, नफरत और हिंसा विहीन विश्व’ विषय पर कहा कि विश्व ऐसे समय में जब विश्व को हिंसा, ग्लोबल वार्मिंग, आय असमानता और अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है अहिंसा, शांति और सद्भावना का जैन दर्शन मानवता के लिए अधिक समकालीन है | भगवान महावीर की शिक्षाओं पर आधारित जैन धर्म को विज्ञान द्वारा भी मान्यता प्राप्त है | जैन धर्म मे प्रतिपादित जीवनशैली को अपनाने से हम स्वस्थ, समृद्ध और सुखी समाज का निर्माण कर सकते हैं| विकास के लिए शांति आवश्यक है; अंतरधार्मिक संवाद से विश्व शांति स्थापित कर सकते हैं | आचार्य लोकेश ने ‘ग्लोबल वार्मिंग व प्राकृतिक संसाधनों का हनन’ विषय पर कहा कि जैन धर्म दुनिया में सबसे अधिक पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा करने वाला धर्म है | भगवान महावीर द्वारा प्रतिपादित शतजीवनिकाय सिद्धांत प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा के बारे में बात करता है | जैन आगमों ने प्रकृति को एक अद्वितीय तरीके से दर्शाया है वह कहते है कि प्रकृति के पांच तत्व पृथ्वी (भूमि, मिट्टी, पत्थर आदि), जल (जल संसाधन व बादल ), अग्नि (अग्नि), वायु (वायु) और आकाश (आकाश) जीवित प्राणी हैं इन्हें जीवित प्राणियों की तरह माना जाना चाहिए | ये पांच प्रकार के तत्व वनस्पति, पेड़ और पौधे, पक्षी और जानवरों जैसे पाँच वर्ग के प्राणियों की उत्पत्ति करते हैं | जैन धर्म की अवधारणा अपने अनुयायियों को किसी भी प्राणी को नुकसान पहुंचाने के लिए प्रतिबंधित करती है और अंततः सीमित खपत के साथ-साथ पर्यावरण की सुरक्षा में सहायता भी करती है | आचार्य लोकेश ने पर्युषण पर्व : मानवता का आध्यात्मिक विकास और मां पृथ्वी का संरक्षण’ विषय पर कहा कि पर्युषण महापर्व आध्यात्मिक विकास और मानवीय मूल्यों के उत्थान का अनूठा पर्व है | इस पर्व की आराधना से आध्यात्मिक विकास, मानवीय मूल्यों का उत्थान व पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य की सहज ही प्राप्ति होती है | जैन धर्म के इस आध्यात्मिक पर्युषण/ दसलक्षण महापर्व के दौरान लाखों लोग देश और विदेश में क्षमा, मैत्री करुणा, अहिंसा, शांति, सद्भावना के विविध प्रयोगों के द्वारा अपनी आत्मा को भावित करते हैं, जिससे स्वत: ही व्यक्ति के भीतर की नकारात्मक सोच खत्म होती है तथा सकारात्मक सोच, विधायक चिंतन का भाव पैदा होता है | सकारात्मक सोच उत्पन्न होने से व्यक्ति के भीतर का क्रोध, अहंकार, लोभ और माया (कथनी करनी की असमानता) का भाव नष्ट होता है, इससे व्यक्ति की आत्मा सहज, सरल, निर्मल व शांत बनती है जो कि अध्यात्म के अवतरण का मुख्य आधार है | व्यक्ति के भीतर अध्यात्म का अवतरण होने से स्व और पर की भेदरेखा खत्म होती है , वह स्वार्थ से ऊपर उठकर परार्थ और परमार्थ का चिंतन करता है | आचार्य लोकेश ने क्षमा का महत्व बताते हुये कहा कि पर्युषण पर्व का अंतिम दिन संवतसरी या क्षमावाणी (क्षमा दिवस) के साथ समाप्त होता है। इसके समापन पर, अनुयायी पिछले वर्ष के दौरान जाने अनजाने मे किए गए अपने सभी अपराधों के लिए दूसरों से क्षमा मांगते हैं | क्षमा करने से मानसिक शांति, मन को प्रसन्नता मिलती है, जीवों से मैत्री होती है, आत्मा की शुद्धि होती है, व्यक्तित्व में निर्भयता आती है | हम उन लोगों को क्षमा करते हैं जिन्होंने हमारे साथ गलत किया है और उन लोगों से क्षमा मांगते है जिनके साथ हमने गलत किया है | माफी सिर्फ मनुष्य से ही नहीं, बल्कि सभी जीवित प्राणियों से मांगी जाती है | क्षमा करना और क्षमा मांगना एक ऐसा जीवन चक्र है जो हमे सभी प्राणियों के साथ सद्भावना के साथ रहना सिखाता है | यह उत्तम कर्म का मार्ग प्रशस्त करता है |


Acharya Lokesh, Subramanian Swamy addressed the Hindu Heritage Celebration Indian Culture has great contributio in Uniting the World – Subramaniyan Swamy Moderanism & Spirituality both can bring balanced development - Acharya Lokesh

03-11-2018

Member of Indian Parliament Dr. Subramanian Swamy, Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni, High Commissioner of India in Canada His Excellency Vikas Swaroop, Sadguru Brahmeshanandacharya, Adhyatmanand Swami, Yogguru Aanand Giri, Dwarkeshlal ji from Gujrat and many eminent people different parts of the world addressed the Hindu Heritage celebrations organized in Canada to discussed religious unity and brotherhood. Vasudhaiva Kutumbkam Hindu Heritage Celebration is a platform through which Hindu Culture, traditions and culture come together from different parts of the world. MP Subramanian Swami on the occasion said that Indian Culture can play an important role towards establishing World Unity and enhancing Human Values. There is a need to take the practical form of this culture to different parts of the world. I am hopeful that when Policy Makers and Religious Gurus will work together efforts of World Peace will be encouraged. Ambassador of Peace Acharya Dr. Lokesh Muni said that amazing coordination of modernism and spirituality is seen here, modernism and spirituality can together bring complete development. . Pluralist culture of India is an inspiration for the entire world. He said that World is one family, we all are creation of the same universe. The effort made for World Unity and to give the message of world peace keeping and forget the differences of region, language, religion, caste and colour is a matter of appreciation. High Commissioner of India in Canada Vikas Swaroop said that we should take the spiritual and religious values to younger generations. Through such celebrations our traditions will reach present generation. Shri Ramesh Chotai, Kash Sood, Shiv Bansal, Ranvir Dogra, Dr. Doobey, Harshit Shah made endless efforts for the success of the program.

आचार्य लोकेश, सुब्रमणियण स्वामी ने हिन्दू संस्कृति उत्सव को संबोधित किया भारतीय संस्कृति का वैश्विक एकता स्थापित करने मे महत्वपूर्ण योगदान – स्वामी आधुनिकता और आध्यात्म के समन्वय से संतुलित विकास संभव – आचार्य लोकेश

कनाडा में आयोजित हिन्दू संस्कृति उत्सव में भारतीय संसद के सदस्य डा. सुब्रमणियण स्वामी, अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश मुनि, कनाडा में भारत के राजदूत महामहिम विकास स्वरूप, सद्गुरु ब्रहमेश्वरा नन्द जी, अध्यात्मनन्द स्वामी जी, योगुरु आनंद गिरि जी, गुजरात से द्वारकेशवरलाल जी व विश्व के कोने कोने से आए अनेक प्रतिष्ठित महानुभावों ने भाग लिया और धार्मिक एकता व बंधुत्व पर अपने विचार व्यक्त किए | वासुधेव कुटुंबकम हिन्दू हेरिटेज एक ऐसा अंतरराष्ट्रीय आयोजन है जिसके माध्यम से विश्व के कोने कोने मे प्रचलित हिन्दू संस्कृति, परम्पराओं और मान्यताओं को एक मंच पर आने का अवसर मिलता है | सांसद सुब्रमणियण स्वामी ने इस अवसर पर कहा कि भारतीय संस्कृति का वैश्विक एकता और मानवी मूल्यों को उजागर करने में एक महत्पूर्ण भूमिका निभा सकती है | जरुरत है इस संस्कृति के व्यवहारिक रूप को विश्व के कोने कोने में ले जाने की | आशा है नीति निर्धारकों एवं धार्मिक संतों के एकजुट होकर काम करने से विश्व शांति के प्रयासों को गति मिलेगी | शांतिदूत आचार्य लोकेश मुनि ने कहा कि कनाडा में आधुनिकता और अध्यात्म का अद्भुत संगम देखने को मिला, आधुनिकता और अध्यात्म के समन्वय से ही संतुलित विकास संभव है | भारत की बहुलतावादी संस्कृति समूचे विश्व के लिए प्रेरक है | उन्होने कहा कि सारा विश्व एक परिवार है, हम सब एक ही परम ब्रह्मांड की उत्पत्ति है | इस मंच से क्षेत्र, धर्म, रंग के भेद को भुला कर वैश्विक एकता का सन्देश देने का प्रयास किया गया है यह बेहद प्रसंशनीय है | कनाडा में भारत के राजदूत विकास स्वरूप ने कहा कि आध्यात्मिक व धार्मिक परम्पराओं को युवा पीढ़ी तक ले जाना आवश्यक है | ऐसे आयोजनों के माध्यम से ही युवाओं को प्राचीन परंपरों से अवगत कराया जा सकता है | कार्यक्रम के सफल आयोजन में रमेश चोटाई, काश सूद, शिव बंसल, रणवीर डोगरा, डा.दूबे, हर्षित शाह ने पूर्ण सहयोग दिया |


Acharya Lokesh addressed the gathering at Toronto Jain Temple Scientific Jain Religion is contemporary and useful for World - Acharya Lokesh

03-11-2018

Ambassador of Peace Jain Acharya Dr. Lokesh Muni during his tour to Canada addressed the topic 'Relevance of the scientific Jain religion' in the Jain Society of Toronto. Acharya Lokesh addressing the gathering, said that Jainism is very relevant in the current global scenario, it is possible to solve many global problems by adopting Jain principles. Acharya Lokesh speaking about the scientific Jain religion, said that Jainism based on the Lord Mahavir's philosophy of non-violence, peace and harmony is more contemporary for humanity when people face many problems like violence, global warming, income inequality etc.. The principles of Lord Mahavira are also recognized by science. By adopting the lifestyle shown by him we can create a healthy, prosperous and happy society. Peace is essential for development; Parallel development of all sections of society can solve many social problems. He said that the deprivation and excessive availability are both harmful. By adopting Lord Mahavira's teachings, many contemporary social problems like environment and natural resources degradation, violence, war and terrorism, religious intolerance and economic exploitation can be solved. Acharya Lokesh said that Lord Mahavir has preached three paths of happiness: 'True faith, knowledge and conduct' which he adopted in his life too. During his life, he adopted the path of non-violence and self-effort, to solve all the burning social problems like discrimination against women, equal status to women in education and religion, no decimation on the basis of caste, creed and status, he said that All living beings are equal, and everyone has the capacity to achieve the highest state. Promoting self-effort (labor) and the principle of work, he eliminated animal sacrifice for religious purposes; to eliminate economic inequality he taught removal of ownership and replacing it with trusteeships. By adopting Jainism, solutions to problems like climate change and global warming is also possible. On this occasion, Mrs. Namita Dosi, secretary of the Toronto Jain Society, members Praful Shah and Piyesh Dosi, warmly welcoming Acharya Dr. Lokesh Muni said that it is a matter of pride for us that Acharyashree is representing Jainism in the Parliament of World’s Religion. They requested Acharya Ji to again visit Toronto.

आचार्य लोकेश ने टोरंटो जैन मंदिर मे सभा को संबोधित किया वैज्ञानिक जैन धर्म प्रासंगिक एवं विश्व के लिये उपयोगी – आचार्य लोकेश

कनाडा के प्रवास पर शांतिदूत जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि टोरंटो की जैन सोसायटी में ‘वैज्ञानिक जैन धर्म की प्रासंगिकता’ विषय को संबोधित किया | उपस्थित सभा को संबोधित करते हुये आचार्य लोकेश ने कहा कि वर्तमान वैश्विक परिपेक्ष मे जैन धर्म बेहद प्रसंगगिक है, जैन सिद्धांतों को अपनाने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव है | आचार्य लोकेश ने वैज्ञानिक जैन धर्म की के बारे में बताते हुये कहा कि भगवान महावीर के अहिंसा, शांति और सद्भावना के दर्शन पर आधारित जैन धर्म मानवता के लिए अधिक समकालीन है जब लोगों को हिंसा, ग्लोबल वार्मिंग, आय असमानता आदि जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। भगवान महावीर के सिद्धांत विज्ञान द्वारा भी मान्यता प्राप्त हैं। उनके द्वारा दिखाए गई जीवन शैली अपनाने से हम स्वस्थ, समृद्ध और खुश समाज का निर्माण कर सकते हैं | विकास के लिए शांति आवश्यक है, समाज के सभी वर्गों के समानांतर विकास से कई सामाजिक समस्याओं को हल किया जा सकता हैं | उन्होने कहा कि आभाव और अत्यधिक उपलब्धता दोनों हानिकारक हैं | भगवान महावीर शिक्षाओं को अपनाने से पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों का ह्रास, हिंसा, युद्ध और आतंकवाद, धार्मिक असहिष्णुता और आर्थिक शोषण जैसे कई समकालीन सामाजिक समस्याओं को हल किया जा सकता है। आचार्य लोकेश ने कहा कि भगवान महावीर ने आनंद प्राप्ति के तीन मार्ग बताए हैं 'सही विश्वास, ज्ञान और आचरण' जो उन्होने अपने जीवन मे भी अपनाए | अपने जीवन के दौरान, उन्होंने महिला दासता, शिक्षा व धर्म मे महिलाओं को समान दर्जा, जाति, पंथ या जाति का भेदभाव किए बिना सभी को समान जैसी ज्वलंत समस्याओं को हल करने के लिए उन्होने अहिंसा और आत्म प्रयास जैसे मार्ग को अपनाया और कहा कि सभी जीवित प्राणी समान है, और सभी में उच्चतम अवस्था प्राप्त करने की क्षमता है | आत्म प्रयास (श्रम) और कर्म के सिद्धांत का प्रचार करे, धार्मिक उद्देश्यों के लिए पशु बलि को खत्म करें; आर्थिक असमानता खत्म करने के लिए अधिपत्य हटा कर ट्रस्टीशिप / दान लाये | जैन धर्म अपनाने से जलवायु परिवर्तन एवम ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्याओं का समाधान भी संभव है | इस अवसर पर टोरन्टो जैन सोसायटी की सेकेट्री श्रीमती नमिता डोसी, सदस्य प्रफुल शाह व पयेश डोसी ने आचार्य डॉ लोकेशमुनिजी का जैन सोसायटी टोरन्टो आगमन पर हार्दिक स्वागत करते हुए कहा कि आचार्यश्री वर्ल्ड रीलिजनन्स आफ पार्लियामेंट में जैनधर्म का प्रतिनिधित्व कर रहे है यह हमारे लिए गौरव का विषय है उन्होंने आचार्य श्री लोकेशजी को पुन: टोरन्टो आगमन के लिए पुरज़ोर प्रार्थना की।


Vice President and Acharya Lokesh hold exclusive discussion in Historic Art Institute of Chicago India Saints should lead the world in the field of spirituality - Vice President Religion should be connected with Social welfare - Acharya Lokesh

13-09-2018

Vice President of the Republic of India, His Excellency Mr. Venkaiah Naidu ji and Eminent Spiritual Leader Acharya Dr. Lokeshmunji ji Chicago had an exclusive discussion at that historic Art Institute of Chicago, where 125 years ago Swami Vivekananda had overwhelmed the entire world with his expressive message in the World Religious Parliament. Ambassador of India, Mr. Navtej Sarna also participated in the discussion. Vice President of India His Excellency Mr. Venkaiah Naidu said that the Saints of India have always shown world the path towards social welfare. Many great personalities oof India like Lord Buddha, Lord Mahavir, Guru Nanak, Swami Vivekananda and Adi Shankaracharya have shown the path which was appreciated and adapted by world population. Many Global Problems can be solved by adopting the principles and philosophy presented by the saints of India. He said that all the saints, the Mahatma, the religious and spiritual master of the present times need to show the path for world welfare from one platform. Founder of Ahimsa Vishva Bharti Jain Acharya Dr. Lokesh Muni said that connecting religion with social service is necessary for social welfare. Connecting religion with spiritualism and making it a medium for elimination of social evils is the need of present times. We all want development, want prosperity. Social life favours peace, fraternity, love, non-violence and equitable development. Development and peace have deep relations. We should pay attention to the inter-religious dialogue for peace in the society. Indian Ambassador Mr. Navtej Sarna said that under the leadership of Acharya Lokesh, Ahimsa Vishva Bharti organisation is constantly trying to establish non-violence, peace and harmony, upliftment of human values and human character in India and Internationally. We hope that Ahimsa Vishva Bharti branche in the US will work for spreading these values in a more effective manner.

भारत के उपराष्ट्रपति एवं आचार्य लोकेश की शिकागो के ऐतिहासिक आर्ट इंस्टीट्यूट में विशिष्ठ चर्चा भारत के संत विश्व का अध्यात्म के क्षेत्र में विश्व का मार्गदर्शन करें – उपराष्ट्रपति धर्म को समाज सेवा से जोड़कर उसे समाज कल्याण का मार्ग बनाये - आचार्य लोकेश

भारतीय गणतंत्र के शिखर पुरूष महामहिम उप राष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू जी व अध्यात्म के शिखर पुरूष पू. आचार्य डॉ लोकेशमुनि जी शिकागो ने उस ऐतिहासिक आर्ट इंस्टीट्यूट में विशिष्ठ चर्चा की जहाँ 125 वर्ष पूर्व पूज्य स्वामी विवेकानंद जी ने विश्व धर्म संसद में अपने ओजस्वी संबोधन से सम्पूर्ण विश्व को अभिभूत किया था। चर्चा में अमेरिका में भारत के राजदूत श्री नवतेज सरना ने भी भाग लिया । भारत के उपराष्ट्रपति महामहिम श्री वेंकैया नायडू ने कहा कि भारत के संतों ने विश्व जनमानस को सदैव समाज कल्याण का मार्ग दिखाया है | भारत के अनेक महापुरुषों जैसे भगवान बुद्ध, भगवान महावीर, गुरु नानक, स्वामी विवेकानंद, आदि शंकराचार्य ने जो मार्ग दिखाया उसे विश्व ने सराहा और अपनाया |भारत के संतो द्वारा प्रतिपादित सिद्धांतों और दर्शन को अपनाने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव है | उन्होंने कहा कि जरुरत है वर्तमान के सबी संत, महात्मा, धार्मिक व अध्यात्मिक गुरु एक मंच से विश्व कल्याण का मार्ग प्रेषित करे | अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि ने कहा कि धर्म को समाज सेवा से जोड़कर उसे समाज कल्याण का मार्ग बना जरुरी है | धर्म को अध्यात्म से जोड़कर उसे सामाजिक कुरीतियों को मिटने का माध्यम बनाना होगा | हम सब विकास चाहते है, समृद्धि चाहते है | सामाजिक जीवन में शांति, बंधुत्व, प्रेम, अहिंसा एवं समतामूलक विकास के पक्षधर हैं | विकास व शांति का गहरा सम्बन्ध है | समाज में शांति के लिए हमें अंतरधार्मिक संवाद की और ध्यान देना चाहिए | भारत के राजदूत श्री नवतेज सरना ने कहा की आचार्य लोकेश के नेतृत्व में अहिंसा विश्व भारती संस्था भारत में ही नहीं अपितु विश्व में अहिंसा, शांति एवं सद्भावना की स्थापना, मानवीय मूल्यों के उत्थान, मानवीय चरित्र निर्माण के लिए निरंतर प्रयत्नशील है | अमेरिका में अहिंसा विश्व भारती की शाखा इन्ही मूल्यों को आगे बढ़ने के लिए और तेजी के काम करेगी ऐसी हम आशा रखते है |


Acharya Lokesh addressed after 125 years of Swami Vivekananda at Historic auditorium of Chicago University India has key role in world unity and peace - Acharya Lokesh

12-09-2018

At the historic auditorium of Chicago, where Swami Vivekanandji addressed the gathering 125 years back, the inaugural function of International Conference was addressed by Founder of Ahimsa Vishwa Bharti HH Acharya Dr Lokesh Muni ji. On 125th anniversary of Swami Vivrkanad address in Chicago, Consulate General of India in Chicago, Neeta Bhushan, Secretary General of the World Religious Parliament Dr. Larry Greenfield was also present. The three day conference World Congress of Vedic Foundations of Management Science was organised by Integrated Spiritual and Organisational Leadership Foundation (ISOL) in the leadership of Chair by Mr. Bhailal Patel and Conference Chair Prof. Sunita Singh Sengupta, Conference attended by prominent personalities from across the world. Acharya Lokesh on this occasion said that India can play an important role in the establishment of world unity and peace. In India, people of different religions, castes and lifestyle live together. 125 years ago Swami Vivekanand expressed Indian philosophy in front of the world in this auditorium and today I have got this opportunity. He said that for world welfare we should leave behind our selfishness and awaken the consciousness of welfare of all within. Acharya Lokesh told that he had represented Jainism in the Parliament of World’s Religions held in Salt Lake City in 2015 and will represent Jainism in the Parliament of World’s Religions organized in November this year in Toronto. It is possible to solve many global problems by adopting the Jainism principles of non-violence, unity in diversity and non-possession. Consulate General of India in Chicago, Neeta Bhushan said that the US has always welcomed Indian saints and ideas of India. India and America can work together for world peace and religious harmony. For this, we have to promote inter religious dialogue at global level. Dr. Larry Greenfield, Secretary-General of the World Religions Parliament said that when saints and thinkers of different religions give a message of human welfare and global unity from a stage, it will definitely have an impact. When people gather on a platform for any common purpose, when they are motivated by the common values, then we can create a better society. The Parliament of World’s Religions is a platform for interreligious dialogue and inter cultural harmony. World population has spiritual and interfaith needs. Attempts are being made to meet both requirements through this platform. Chancellor KR Mangalam University Prof. Dinesh Singh, Dr H P Kanoriya, Dr Bharat Barai, Prof. Sunita Singh Sengupta, Sunayana, Ashok Vyas and many eminent people expressed their views on the occasion.

शिकागो यूनिवर्सिटी के ऐतिहासिक सभागार में स्वामी विवेकानंद के 125 वर्ष बाद आचार्य लोकेश ने सभा को संबोधित किया विश्व एकता और शांति स्थापना में भारत की अहम भूमिका - आचार्य लोकेश

शिकागो यूनिवर्सिटी के ऐतिहासिक सभागार में जहाँ स्वामी विवेकानंदजी नें 125 वर्ष पूर्व संबोधन दिया था उसकी 125 वीं वर्षगांठ पर आयोजित त्रिदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के उद्घाटन समारोह अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक पूज्य आचार्य डॉ लोकेशमुनि जी ने संबोधित किया | इस अवसर पर शिकागो में भारत की राजदूत नीता भूषण , विश्व धर्म संसद के महासचिव डा. लार्री ग्रीनफ़ील्ड, उपस्थित थे | इंटीग्रेटेड स्पिरिचुअल एंड ओरगेनाईजेश्नल लीडरशिप फाउंडेशन (ISOL)द्वारा चेयर श्री भाईलाल पटेल और कांफ्रेंस चेयर प्रोफ. सुनीता सिंह सेनगुप्ता के मार्गदर्शन में आयोजित वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ़ वैदिक फाउंडेशन ऑफ़ मैनेजमेंट साइंस (World Congress of Vedic Foundations of Management Science) कांफ्रेंस में विश्व के कोने कोने से प्रख्यात महानुभावों ने भाग लिया | आचार्य लोकेश ने इस अवसर पर कहा कि विश्व एकता और शांति की स्थापना में भारत अहम भूमिका निभा सकता है| भारत में विभिन्न धर्म, जाति, जीवन शैली के लोग एकसाथ रहते यही | 125 वर्ष पूर्व पहले स्वामी विबेकानंद ने इसी सभागार में भारत भूमि के विचारों को विश्व के समक्ष रखा और आज मुझे यह अवसर मिला है | उन्होंने कहा कि विश्व कल्याण के लिए जरुरी है हम स्वार्थ की भावना से दूर होकर अपने अन्दर परमार्थ की चेतना को जगाना होगा | आचार्य लोकेश ने बताया कि उन्होंने 2015 में साल्ट लेक सिटी में आयोजित विश्व धर्म संसद में जैन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था और इस वर्ष टोरंटो में नवम्बर माह में आयोजित हो रही विश्व धर्म संसद में जैन धर्म का प्रतिनिधित्व करेंगे | जैन धर्म द्वारा प्रतिपादित अहिंसा, अनेकांत, अपरिग्रह जैसे सिद्धांतो को अपनाने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव है | भारत की राजदूत नीता भूषण ने कहा की अमेरिका ने भारतीय संतो और भारत के विचारों का हमेशा स्वागत किया है | भारत और अमेरिका एकसाथ काम कर विश्व शांति और धार्मिक सद्भावना की स्थापना कर सकते है | इसके लिए हमें वैश्विक स्तर पर अंतर्धार्मिक संवाद को बढ़ावा देना होगा | विश्व धर्म संसद के महासचिव डा. लार्री ग्रीनफ़ील्ड ने कहा कि विभिन्न धर्म के संत और विचारक जब एक मंच से मानव कल्याण और वैश्विक एकता का सन्देश देंगे तो इसका निश्चित रूप से प्रभाव होगा | जब लोग किसी साझा उद्देश्य के लिए एक मंच पर एकत्रित होते हैं, साझा मूल्यों से प्रेरित होते हैं, तो समाज के लिए बेहतर काम होते हैं। विश्व धर्म संसद सर्वधर्म सद्भाव और मानव कल्याण के लिए एक मंच के रूप में है। विश्व जनमानस की आध्यात्मिक और पंथ निरपेक्ष दोनों आवश्यकताएं हैं। इस मंच के माध्यम से दोनों आवश्यकताओं की पूर्ति करने का प्रयास है | इस अवसर पर के.आर. मंगलम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. दिनेश सिंह, डा. एच.पी.कनोरिया, डा. भारत बराई, सुनीता सिंह सेनगुप्ता, सुनयना, अशोक व्यास आदि अनेक प्रतिष्ठित व्यक्तियों ने अपने विचार व्यक्त किये |


Acharya Lokesh Bhadrabahu addressed Paryushan Parv in Chicago 4 Maskhaman, 9 Varshiytap and 100 Athaee Tap Continues Paryushan Parva leads to self-purification and World Unity - Acharya Lokesh

10-09-2018

Jain Acharya and founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni and Eminent Jain Philosopher Bhdrabahu Ji are addressing the Paryushan Parv is being celebrated in America's famous Chicago city with great enthusiasm. To listen to the enlightening lectures of Acharya Lokesh thousands of devotees come every day in morning and evening comprising of youth in large numbers. Along with discourse, brothers and sisters performing tapasya are also present. Many devotees have taken the oath of Athaee Tap. It is notable that before this, Paryushan Parv was held in the vicinity of Acharya Lokesh, in London, Singapore, Malaysia, USA. At the Chicago Jain Center, thousands of devotees attended Paryushan Parv, 4 Maskhaman, 9 Varshitap and 100 Athaee are being held. Pujya Acharya Lokesh Muniji and Badrabahuji encouraged the people on spiritual path withenthusiasm. Parnal Ben Shah, Surya Ben Mehta, Himesh Bhai Zaveri and Jayesh Bhai tied the Maskhaman. Amidst the materialistic development of the United States, an unprecedented view of the record ascetic, philosophy, worship and chanting of Swadhyayas in the Paryushan festival cannot be expressed in words. It can only be realized. People gathers with great enthusiasm at in the huge auditorium of Chicago Jain Centre to listen to the immensely effective discourses of Acharya Lokesh on spiritual matters like tapa, chanting, silence, meditation, self-study. Looking at the interest for meditation, yoga, spiritual discourses and penance in the city of Chicago, which reached the peak of materialistic development, Acharya Lokesh said that the attraction of people towards sacrificing and restraint based Indian culture proves that materialistic Development can provide means of happiness but not peace of mind. Spirituality is the only way for inner peace of mind. Acharya Lokesh Muniji said that religion is not against the materialistic development, but when the materialistic development is centred on the foundation of spirituality it becomes a boon for life. In the absence of spirituality, materialistic development sometimes becomes curse rather than boon. Acharya Lokesh advising to adopt a balanced view of life, he said that balance between spirituality and materialism creates a healthy society. Acharya Lokesh said that presently people have forgotten the values of religion and salvation, they are blindly running behind the money and material this is causing distortion in the society. Shri Bhadrabahuji said that the Paryushan Mahaparva is a special festival of Self worship. Through meditation, chanting, self-study, asceticism, etc., on this sacred occasion, the spiritual effort is made to free the soul from karmic bondage. By adopting a controlled life style preached by God Mahavir , one can lead a healthy, happy and happy life. It is a tribute to Pujya Acharya Sushilamuni and Gurudev Chitrabhanuji, who took the bold decision of travelling abroad as the first Jain saint 44 years ago and not only saved Jainism in foreign countries but also laid the foundations of Jain unity. Here Digambar The Shwetambar idol worshipers worship under one roof and due to this unity. The Jains voice is heard in United Nations and also heard in the White House. Wish this also happens in India. Jain Society Chicago Chairman Atul Shah and President Vipul Shah expressed their views.

शिकागो में आचार्य लोकेश एवं भद्रबाहू के सान्निध्य में पर्युषण पर्व का अभूतपूर्व आयोजन 4 मासखमण 9 वर्षीतप व सौ अठाई का तप जारी पर्युषण पर्व आत्म शुद्धि और विश्व मैत्री का महापर्व है – आचार्य लोकेश

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक एवं प्रख्यात जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि एवं जैन समाज के प्रख्यात विद्वान श्री भद्रबाहु जी के सान्निध्य में अमेरिका के प्रख्यात शिकागो शहर में पर्युषण पर्व धूम धाम से मनाया जा रहा है| आचार्य जी का ओजस्वी प्रवचन सुनने के लिए प्रतिदिन प्रात: व सायं दोनों समय हजारों की संख्या में श्रद्धालू होते है जिसमे युवाओं की संख्या सर्वाधिक होती है| प्रवचन के साथ साथ तपस्या करने वाले भाई बहनों का ताँता लगा हुआ है| अब अनेकों भक्त अथाई तप का संकल्प स्वीकार कर चुके है| उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व लन्दन, सिंगापूर, मलेशिया, अमेरिका में अनेकों बार आचार्य लोकेश के सान्निध्य में पर्युषण पर्व का आयोजन हुआ है| शिकागो जैन सेंटर में 4 मासखमण, 9 वर्षीतप, सौ अठाई व प्रवचन में उपस्थित हज़ारों श्रद्धालुओं का उत्साह वर्धन पूज्य आचार्य लोकेशमुनिजी एवं बधरे बाउजी ने किया | पर्नल बेन शाह, सुर्य बेन मेहता, हिमेश भाई जावेरी एवं जयेश भाई ने मासखमण किया | अमेरिका की भौतिक चकाचौंध के बीच पर्युषण पर्व में रिकार्ड तपस्या, दर्शन-पूजा, जप-तप स्वाध्याय का अभूतपूर्व नज़ारा जिसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता | केवल महसूस किया जा सकता हैं। तप, जप, मौन, ध्यान, स्वाध्याय आदि आध्यात्मिक विषयों पर आचार्य लोकेश के ओजस्वी प्रभावी प्रवचन सुनने के लिए जैन सेंटर शिकागो के विशाल सभागार में अबाल वृद्ध सभी का उत्साह देखने लायक है| भौतिक सुविधाओं की चरम सीमा पर पहुँच चुके शिकागो शहर में युवाओं में ध्यान, योग, आध्यात्मिक प्रवचन औत तपस्या के प्रति होड़ को देखकर आचार्य लोकेश ने कहा कि त्याग और संयम आधारित भारतीय संस्कृति के प्रति लोगों का आकर्षण इस बात को सिद्ध करता है कि भौतिक विकास सुख के साधन उपलब्ध करा सकता है किन्तु मन की शांति नहीं| मन की आतंरिक शांति के लिए आध्यात्म ही एकमात्र मार्ग है| आचार्य लोकेश मुनिजी ने कहा धर्म, भौतिक विकास से विरोधी नहीं है किन्तु जो भौतिक विकास अध्यात्म की नींव आधारित होता है, वह जीवन में वरदान बनता है| अध्यात्म के अभाव में भौतिक विकास वरदान कि बजाय कभी कभी अभिशाप बन जाता है| उन्होंने जीवन में संतुलित नजरिया अपनाने कि सलाह देते हुए कहा अध्यात्म और भौतिकता के बीच संतुलन होने से स्वस्थ समाज का निर्माण होता है| आचार्य लोकेश ने कहा वर्तमान समय में धर्म और मोक्ष को भुलाकर केवल अर्थ और काम के पीछे अंधी दौड़ से विकृतियाँ पनप रही है| श्री भद्रबाहु जी ने कहा कि पर्युषण महापर्व आत्मा- आराधना का विशिष्ठ पर्व है| इस पावन अवसर पर ध्यान, जप, स्वाध्याय, तप आदि के द्वारा आत्मा को कर्म बंधनों से मुक्त कर आध्यात्मिक विकास का प्रयास किया जाता है| भगवान महावीर द्वारा प्रतिपादित संयम आधारित जीवन शैली को अपनाकर व्यक्ति स्वस्थ, सुखी और आनंदमय जीवन जी सकता है| श्रद्धानत हैं पूज्य आचार्य सुशीलमुनिजी व गुरूदेव चित्रभानुजी के प्रति जिन्होंने आज से 44 वर्ष पूर्व सर्व प्रथम जैन संत के रूप में विदेश यात्रा का साहसिक निर्णय लिया व विदेश में जैनधर्म को न केवल लुप्त होने से बचाया बल्कि जैन एकता की ऐसी नींव रखी कि यहाँ दिगम्बर श्वेताम्बर मूर्तिपूजक स्थानकवासी तेरापंथी सब एक छत के नीचे धर्म की आराधना करते है और इस यूनिटी के कारण यहाँ जैनों की आवाज़ युनाइटेड नेशन्स व व्हाइट हाउस में भी सुनाई देती है। काश भारत में भी ऐसा हो| जैन सोसायटी शिकागो के चेयरमेन अतुल शाह व अध्यक्ष विपुल शाह ने अपने विचार व्यक्त किये |


Acharya Lokesh the first Indian awarded with USA Congress Peace Prize A New inspiration for International Interfaith Dialogue was seen in USA when a Jain saint who worked for peace was honored with a special Prize Dennis K Davis, Congressman for twenty years, conferred Acharya Dr. Lokesh Muni with Peace and Harmony Award India-US should work together to end Poverty and Terrorism - Acharya Lokesh

10-09-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti eminent Jain Acharya Dr. Lokesh Muni is the first Indian to be honored with the presented the U. S. Congressional Danny K Davis Peace Prize for his efforts to promote Inter Faith Dialogue for World Peace and Harmony. The Award was presented by Honorable Congressman Danny K Davis, Ranking Member Of the powerful U. S. House Ways and Means Committee at his Chicago Office. Many eminent people and Congressmen were present at Danny K Davis Peace Prize 2018 ceremony. In 2015 the speaker Mudasiru Ajaee Obasa of Nigeria's Logos State House Assembly, in 2016 Canada's Woman Foundation's chairmanship to Gabby Adityo, In 2017 President of Burma's Republic of Burundi, Dr. Klait Reverse, President of the Republic of Burundi were honored with this award. Congressman for twenty years Danny Davis on the occasion said that Acharya Lokesh has set an example in the field of world peace, harmony and inter-religious dialogue. He is a ray of hope for world population who always strives to end terrorism, violence and differences from the world. He said that through Ahimsa Vishwa Bharti international branch which was launched a few months back in USA the efforts of world peace will reach different parts of the world. Acharya Lokesh on this occasion said that violence and terrorism cannot solve any problem. Violence raises counterviolence. It is possible to solve every problem through dialogue. Violence in the name of religion is harmful to world peace. Violence, terror and tension that prevail in society disturb all the developmental activities. Unity in diversity is the fundamental characteristic of Indian culture, by adopting this philosophy we can establish universal harmony and world peace. Acharya Lokesh said that India and America should work together to eradicate poverty and terrorism. Kishor Mehta, Chairman Multi Ethnic Advisory Task Force, 7th Congressional District welcomed the gathering. Dr Vijay G Prabhakar Founder Multi Ethnic Advisory Task Force & President American Multi Ethnic Coalition Inc, Chicago introduced Acharya Dr Lokesh Muni Ji and highlighted his work globally. Dr Mazen Barakat, Senior Vice President , American Association Of Multi Ethnic Physicians Inc& Publisher Hyatt Magazine for Middle Eastern Americans, Illlinois felicitated Acharyaji on receiving the Award and praised his services. Dr Gladys Folorunsho, President USA Africa Chamber of Commerce Inc thanked Acharya Ji for his leadership and appealed to Acharyaji to spread his mission to Nigeria, Ghana & Carrington Ranis Nations. Dr Zenobia Sowell, National Executive Board Member Of Mennonite Church U.S.A proposed a vote of Thanks on the occasion. Prof Dr Clarence Beals, Award Jury Chair , Colby Blair Smith , Award Jury Co Chair , Dr Sivakumar Madesan, Award Jury Secretary , Nagendra Sripada, IIT Alumni Association Of America, Gerard Moorer, Deputy Director Of U. S. Congressman Danny K Davis office , Chicago, Vijay G. Prabhakar, Senior leader of Jain Community Urvish Punatar,Founder of Religion World Bhavya Shrivastava and others were present at the Award ceremony of U. S. Congressional Danny K Davis Peace Prize 2018.

आचार्य लोकेश USA कांग्रेस शांति पुरस्कार से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय अंतर्रधामिक विश्व प्रयासों के लिए अमेरिका में एक नई प्रेरणा तब बनीं जब शांति के लिए कार्य करने वाले जैन संत को एक खास सम्मान से सुशोभित किया गया। बीस सालों से कांग्रेसमैन रहे डेनी के डेविस ने आचार्य डॉ लोकेश मुनि को शांति और सद्भावना के लिए दिया अवॉर्ड अमेरिका गरीबी व आतंकवाद को ख़त्म करने के लिए काम करे - आचार्य लोकेश

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक प्रख्यात जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि पहले ऐसे भारतीय है जिन्हें यूएस कांग्रेस डैनी के डेविस शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यूएस कांग्रेस डैनी के डेविस शांति पुरस्कार 2018 से आचार्य लोकेश को विश्व शांति और सद्भावना एवं अंतर धार्मिक संवाद को बढ़ावा देने के उनके द्वारा किया गए प्रयासों के लिए माननीय कांग्रेस नेता डैनी के डेविस ने अपने शिकागो कार्यालय में प्रदान किया। इस अवसर पर अमेरिका के अनेक प्रतिष्ठित महानुभाव एवं विशिष्ट जन उपस्थित थे। 2015 में इसी सम्मान से नाइजीरिया की लॉगोस स्टेट हाउस एसेंबली की स्पीकर मुदासिरु अजाई ओबासा 2016 में कनाडा की वुमेन फाउंडेशन की चेयर ग्बेमी अदेतायो को 2017 में रिपब्लिक ऑफ बुरूंडी के आई चेंज नेशन के अध्यक्ष डॉ क्लाइट रिवर्स को भी इस सम्मान से नवाजा गया है। कांग्रेस नेता डैनी के डेविस ने कहा कि आचार्य लोकेश ने विश्व शांति, सद्भावना स्थापना एवं अंतर धार्मिक संवाद के क्षेत्र में मिसाल कायम की है। विश्व जनमानस के लिए वो एक आशा की किरण है जो विश्व के आतंकवाद, हिंसा और मनभेदों को ख़त्म करने के लिए सदैव प्रयासरत रहते हो। उन्होंने कहा अहिंसा विश्व भारती संस्था की अन्तराष्ट्रीय शाखा जिसका कुछ माह पहले अमेरिका में शुभारम्भ हुआ है उसके माध्यम से विश्व शन्ति के प्रयासों को गति मिलेगी। आचार्य लोकेश ने इस अवसर पर कहा कि हिंसा व आतंकवाद किसी समस्या का समाधान नहीं। हिंसा प्रतिहिंसा को जन्म देती है। संवाद के द्वारा वार्ता के द्वारा हर समस्या का समाधान संभव है, कि सम्प्रदाय व धर्म के नाम पर हिंसा करना विश्व शांति के लिए हानिकारक है। हिंसा, आतंक व तनावपूर्ण माहौल से समाज में अस्थिरता आती है जिससे विकास के सभी कार्य बाधित होते हैं। अनेकता में एकता भारतीय संस्कृति की मौलिक विशेषता है इसको अपनाकर हम सर्वधर्म सद्भाव और विश्व शांति की स्थापना कर सकते है। आचार्य लोकेश ने कहा भारत और अमेरिका को एकसाथ गरीबी व आतंकवाद के खात्मे के लिए काम करना चाहिए। इस अवसर पर किशोर मेहता, अध्यक्ष बहु जातीय सलाहकार टास्क फोर्स, 7 वें कांग्रेस के जिला ने सभा का स्वागत किया। डॉ विजय जी प्रभाकर, संस्थापक बहु जातीय सलाहकार कार्य बल और राष्ट्रपति अमेरिकी बहु जातीय गठबंधन इंक, शिकागो ने आचार्य डॉ लोकेश मुनीजी परिचय प्रस्तुत किया और वैश्विक स्तर पर उनके काम पर प्रकाश डाला। मध्य पूर्व अमेरिकियों के लिए बहुसंख्यक चिकित्सकों इंक और प्रकाशक हयात पत्रिका के अमेरिकन एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ माज़ेन बराकैट ने पुरस्कार प्राप्त करने पर आचार्यजी को सम्मानित किया और उनकी सेवाओं की सराहना की। डॉ. ग्लेडिस फोलोरुनशो, राष्ट्रपति यूएसए अफ्रीका चैंबर ऑफ कॉमर्स इंक ने आचार्य जी का धन्यवाद किया और आचार्यजी से नाइजीरिया, घाना और कैरिंगटन रानी राष्ट्रों के लिए अपना मिशन फैलाने की अपील की। डॉ जेनोबिया सोवेल मेनोनाइट चर्च के राष्ट्रीय कार्यकारी बोर्ड सदस्य यू.एस.ए. ने अवसर पर धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया। प्रोफेसर डॉ क्लेरेंस बील्स, पुरस्कार जूरी चेयर, कोल्बी ब्लेयर स्मिथ पुरस्कार जूरी सह अध्यक्ष, डॉ शिवकुमार मेडेसन पुरस्कार जूरी सचिव, नागेंद्र श्रीपाद आईआईटी पूर्व छात्र एसोसिएशन ऑफ अमेरिका, जेरार्ड मूरर अमेरिकी कांग्रेस के डैनी के डेविस कार्यालय के उप निदेशक, विजय जी. प्रभाकर, जैन समाज के वरिष्ठ उर्विश पुनातर, रिलीजन वर्ल्ड के संस्थापक भव्य श्रीवास्तव एवं अनेक प्रतिष्ठित हस्तियाँ अमेरिकी कांग्रेस के डैनी के डेविस शांति पुरस्कार 2018 समारोह में शिकागो उपस्थित थे।


Mohan Bhagwat, Acharya Lokesh addressed World Hindu Congress in Chicago PM Modi, Dalai Lama, Sri Sri Ravi Shankar gave message Religions supports Human Welfare and Development - Acharya Lokesh

09-09-2018

World Hindu Congress organised from 7 to 9 September 2018 to celebrate 125th Anniversary of historical speech given by Swami Vivekanand Ji at Parliament of World’s Religions in Chicago was inaugurated by RSS Chief Shri Mohan Bhagwat, Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muniji, Swami Swarupanandji, Puranatmananda ji, Sadguru Dilipji and others. Prime Minister of India Shri Narender Modi send his message for the Congress. Eminent Spiritual leader HH Dalai Lama, Founder of Art of Living Sri Sri Ravi Shankar gave video message on the occasion. Honorable Vice President of India Shri M. Venkaiah Naidu has reached Chicago to address the Congress. Representatives of more than 60 countries took part in the program. Prime Minister Narendra Modi in the video message said that various aspects of Hindu philosophy can solve many problems present in front of the world. At the same time, he insisted on the use of technology to connect more and more people who believe in Hindutva. In his message to the second 'World Hindu Congress', Shri Modi said that we can better connect younger generation with Hindutva by bringing various ancient epics and scriptures in digital form. He said, "It will be great service for the next generation." Shri Modi said, "The manner in which thinkers, scholars, intellectuals, enlightened thinkers are brought together in this conference is commendable." The Prime Minister said that Hindutva is the oldest philosophy in the history of mankind. He said that in various aspects of Hindu philosophy, we can solve many world problems of present times. Shri Mohan Bhagwat, addressing the World Hindu Congress, appealed to the Hindus to unite, he said that they should work together for the betterment of humanity. Shri Bhagwat said that Hindus do not oppose anybody, they also let insects live. He said this is the right moment when we have to stop our descent. We are churning on how to develop. We are not a slave or oppressed country. India's people have a dire need of ancient intelligence. Bhagwat said that idealism is good, but that is not 'anti-modernism' and it is 'future beneficial'. He said, 'The important value of bringing the entire world as a team is to learn to control egos and to accept the consensus. Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Lokesh Muni said that India has always shown world the path of spirituality. This was proved 125 years back by Swami Vivekananda and Shri Vir chand Raghav Ji Gandhi, and it is proved today by organisation of World Hindu Congress in Chicago city of USA. Through World Hindu Congress I want to send the message that all religions preach humanity. Religion has always taught us how to live together supporting each other. Since early civilization religion has always brought people together to move ahead towards development. Acharya Lokesh said that in 1893 Shri Vir Chand Raghav ji Gandhi represented Jain religion and today I got the golden opportunity to represent Jain Religion at World Hindu Congress. World Hindu Congress Coordinator Dr. Abhay Asthana and Chairman of the Economic Committee told that approximately 2000 representatives from 80 countries are participating in 'Second World Hindu Congress'. In the three day Mahakumbh from 7 to 9 September important discussions are being held in seven categories namely World Hindu Economic Forum, Hindu Educational Conference, Hindu Media Conference, Hindu Organisational Conference, Hindu Political Conference, Hindu Women Conference, Hindu Youth Conference. In this around 250 key speakers are expressing their views in various sessions.

मोहन भागवत, आचार्य लोकेश, ने शिकागो में विश्व हिन्दू कांग्रेस को संबोधित किया प्रधान मंत्री मोदी, दलाई लामा, श्री श्री रवि शंकर ने दिया सन्देश धर्म समाज को मानव कल्याण एवं विकास की ओर ले जाता है - आचार्य लोकेश

स्वामी विवेकानंद के विश्व धर्म संसद में शिकागो में दिए गए ऐतिहासिक संबोधन के 125 वें वर्ष पूर्ण होने पर 7 से 9 सितम्बर तक शिकागो शहर में आयोजित ‘विश्व हिन्दू कांग्रेस’ का उदघाटन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघ चालक श्री मोहन भागवत, अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश मुनि जी, स्वामी स्वरूपानन्दजी, स्वामी पूर्णात्मानंद जी, सद् गुरू दिलीपजी आदि ने किया | इस अवसर पर भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने इस अवसर पर सन्देश भेजा| प्रख्यात बौद्ध धर्मगुरू दलाई लामा आर्ट आफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने विडियों संदेश द्वारा सम्बोधित किया | कांग्रेस को संबोधित करने भारत के उपराष्ट्रपति महामहिम श्री वेंकैया नायडू शिकागो पहुँच चुके हैं | कार्यक्रम में 60 से अधिक देशों के हिंदू नेता शामिल हुए | प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विडियों संदेश में कहा कि हिंदू दर्शन के विभिन्न पहलू विश्व के सामने पेश कई समस्याओं का हल दे सकते हैं | साथ ही उन्होंने हिंदुत्व के विचारों से ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ने के लिए टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल पर ज़ोर दिया | मोदी ने यहां दूसरे ‘विश्व हिंदू कांग्रेस’ को भेजे अपने संदेश में कहा कि विभिन्न प्राचीन महाकाव्यों और शास्त्रों को डिजिटल स्वरूप में लाने से युवा पीढ़ी उनके साथ बेहतर तरीके से जुड़ सकेगी | उन्होंने कहा, “यह आने वाली पीढ़ी के लिए महान सेवा होगी|” श्री मोदी ने कहा, “यह सम्मेलन जिस प्रकार से विचारकों, विद्वानों, बुद्धिजीवियों, प्रबुद्ध विचारकों को एक साथ लाया है वो सराहनीय है|” प्रधानमंत्री ने कहा कि हिंदुत्व मानवजाति के इतिहास में सबसे पुराना मत है| उन्होंने कहा कि हिंदू दर्शन के विभिन्न पहलुओं में हम उन अनेक समस्याओं का हल निकाल सकते हैं जिन्हें विश्व ने आज जकड़ा हुआ है| श्री मोहन भगवत ने विश्व हिन्दू कांग्रेस को संबोधित करते हुए हिन्दुओं से एकजुट होने की अपील की, उन्होंने कहा वो एकजुट होकर मानवता की बेहतरी के लिए कार्य करे | श्री भागवत ने कहा कि हिन्दू किसी का विरोध करने के लिए नहीं जीते, वो कीड़े मकोड़ो को भी जीने देते हैं | उन्होंने कहा यह सही पल है जब हमें अपना अवरोहण रोकना है| हम इसपर मंथन कर रहे हैं कि उत्थान कैसे हो | हम कोई गुलाम या दबे कुचले देश नहीं है | भारत के लोगो को हमारी प्राचीन बुद्धिमता की सख्त जरुरत है | भागवत ने कहा कि आदर्शवाद की भावना अच्छी है, लेकिन वो ‘आधुनिकता विरोधी’ नहीं है और ‘भविष्य हितेषी’ है | उन्होंने कहा ‘पूरे विश्व को एक टीम के तौर पर लाने का महत्वपूर्ण मूल्य अपने अहम नियंत्रित करना और सर्वसम्मति को स्वीकार करना सीखना है | अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश ने कहा कि भारत अध्यात्म में क्षेत्र में विश्व का सदैव मार्गदर्शन करता रहा है | यह 125 वर्ष पूर्व स्वामी विवेकानंद जी और श्री वीरचंद राघव जी गाँधी ने साबित कर दिया था और आज द्वितीय विश्व हिन्दू कांग्रेस के शिकागो शहर में आयोजन से भी साबित हो रहा है | विश्व हिन्दू संसद के माध्यम से में यही सन्देश विश्व के कोने कोने में ले जाना चाहता हूँ कि धर्म मानवता की शिक्षा देता है | धर्म ने सदैव लोगो को एकसाथ रहना सिखाया है | सभ्यताओं के आरंभ से आज तक धर्म ने मनुष्य को एकजुट होकर विकास की ओर अग्रसर किया है | आचार्य लोकेश ने बताया कि 1893 में आयोजित विश्व धर्म संसद में श्री वीर चंद राघव जी गाँधी ने जैन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था और आज मुझे शिकागो में आयोजित विश्व हिन्दू कांग्रेस में जैन धर्म का प्रतिनिधित्व करने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ| विश्व हिन्दू कांग्रेस के समन्वयक डा. अभय अस्थाना एवं आर्थिक समिति के चेयर डा. भरत बरई ने बताया कि ‘द्वितीय विश्व हिन्दू कांग्रेस’ में 80 देशों से लगभग 2000 प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं | इस महाकुम्भ में मुख्य रूप से विश्व हिंदु आर्थिक मंच, हिंदु शैक्षणिक सम्मेलन, हिंदु मीडिया सम्मेलन, हिंदु संगठनात्मक सम्मेलन, हिंदु राजनीतिक सम्मेलन, हिंदु महिला सम्मेलन, हिंदु युवा सम्मेलन इन सात विषयों पर गंभीर मंथन होगा, जिसमें लगभग 250 प्रमुख वक्ता विभिन्न सत्रों में अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं |


Organ Donation Day

17-08-2018

Religious Leaders dispel misconception around Organ Donation Organ Donation is a noble deed, religion is not obstacle - Acharya Lokesh Times of India in collaboration with Kokilaben Dhirubhai Ambani Hospital, Mumbai organised ‘Organ Donation –Spirituality and Science’ seminar addressed by leaders from various religious communities to dispel some of the misconceptions towards organ donation. The seminar took place under the aegis of The Speaking Tree as part of Times Organ Donation Drive. In the seminar, the leaders of various religions, famous doctors and social workers were present. Acharya Lokesh, the founder of Ahimsa Vishva Bharati in the seminar said that organ donation is a noble act and the best deed one can do to enhance the life of another. There are many forms of charity but the biggest of all is donating organs. There is no spiritual hindrance in donating organs. If religion doesn't come in the way of donating worldly processions why would it object to organ donation? Acharya Lokesh said that around 5 lac people in the country are waiting for organ transplantation. There is need of organs like kidney, liver, heart and cornea in the country. Although in India there is minimum number of people who donate organ. While 36 out of every 10 lakh people in USA and 26 out of every 10 lac in Crotia are organ donors. In India the number stops at 0.34. Emphasising the principle of ‘Seva’ embedded in Jainism, he urged people to be selfless. One person can save the life of 8 people by donation 6 organs like heart, lungs, liver, stomach, kidney and intestines. Acharya Lokesh said ‘When I am dead may my body not be buried or burnt or disposed in water. My body should be given to scientific research institutes.” Organ donation is not a new concept as Indian scriptures have mentioned several instances from times immemorial. Acharya Lokesh said that peace after death has nothing to do with organ donation. Whatever humans offer god is materialistic but organs are the only thing we can call our own. In Jainism, Lord Mahavir has shown that the only way to get moksha is through giving. The beauty of organ donation lies in the feeling of the donor family who no longer consider their loved one as a victim of loss but looks at him her one as a hero who saved lives. The seminar held at Nitu Mandke Convention Centre, Kokilaben Dhirubhai Ambani Hospital, Mumbai also addressed the need to build adequate infrastructure and organ transplant centres to justify a donor’s expectations. Dr. Ram Narayan welcomed everyone. Maulana Wahiduddin described this as a noble work and said that Organ donation is a unique way of honouring the sanctity of life. This is why it is undoubtedly an Islamic act. Surgeon and spiritual master Dr. Shantanu Nagarkatti, Srimati Jaya Row founder of Vedanta Vision, Yogacharya Surakshit Goswami from Times Group New Delhi, Dr. Rouen Mascarenhas Secretary FIAMC Bio-Medical Ethics Centre Mumbai, Eilanit Hillel Gadkar representing Jews who conducts educational classes for Jewish Children, Dr. Sanjay Pandey, Sameer Dua founder and chief catalyst at Gift Your Organ Foundation also addressed the seminar.

अंगदान अभियान

धर्म गुरुओं ने अंगदान के प्रति गलत धारणा को दूर किया धर्म अंगदान के मार्ग पर बाधा नहीं, अंगदान सबसे बड़ा दान – आचार्य लोकेश टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप ने कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल के सहयोग से विभिन्न धार्मिक समुदायों के नेताओं को अंग दान के प्रति गलत धारणाओं को दूर करने के लिए ‘अंगदान- अध्यात्मऔर विज्ञान’ संगोष्ठी का आयोजन किया| ‘टाइम्स अंगदान अभियान’ के अंतर्गत संगोष्ठी का योजन स्पीकिंग ट्री के तहत हुआ जिसमें विभिन्न धर्मों के गुरु, विश्व विख्यात डाक्टर एवं समाज सेवी उपस्थित थे | अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश ने कहा कि दान के कई रूप हैं लेकिन सबसे बड़ा अंग दान हैं| अंग दान करने में कोई आध्यात्मिक बाधा नहीं है। यदि धर्म सांसारिक वस्तुओं को दान करने के बीच में नहीं आता है तो वह अंगदान करने का विरोध क्यों करेगा । आचार्य लोकेश ने कहा कि देश में तकरीबन पांच लाख लोग अंग प्रत्यारोपण का इन्तजार कर रहे हैं | यहाँ किडनी, लीवर, ह्रदय और कोर्निया जैसे अंगों की सबसे ज्यादा जरुरत है | हलाकि फ़िलहाल दुनिया में सबसे कम अंगदान भारत में होता है | प्रति दस लाख आबादी में से अमेरिका में 36 क्रोशिया में 26 और भारत में महज 0.34 लोग अंगदान करते है | जैन धर्म में सेवा के भाव का जिक्र करते हुए उन्होंने लोगो जियो और जीने दो की अपील की | एक व्यक्ति ह्रदय, फेफड़े, लीवर, अग्नाशय, किडनी और अंत जैसे 6 अंगों को दान करके 8 लोगों की जान बचा सकता है | आचार्य लोकेश ने कहा कि ‘मेरी मृत्यु के पश्चात मेरे पार्थिव शरीर को न तो दफनाया जाये और न ही जलाया या पानी में बहाया जाये | मेरे शरीर को वैज्ञानिक अनुसन्धान के लिए दे दिया जाये | अंग दान एक नई अवधारणा नहीं थी क्योंकि भारतीय ग्रंथों ने प्राचीन काल से कई उदाहरणों का उल्लेख किया है। आचार्य लोकेश ने कहा कि मृत्यु के बाद शांति का अंग दान के साथ कुछ लेना देना नहीं है | जो भी मनुष्य ईश्वर को अर्पित करता है वह भौतिकवादी है लेकिन अंग ही एकमात्र चीज है जिसे हम अपना कह सकते हैं। जैन धर्म में भगवान महावीर ने कहा है कि मोक्ष पाने का एकमात्र तरीका पाने का माध्यम है | अंगदान की सुंदरता दाता परिवार की भावना में निहित है जो अपने प्रियजन के संसार से जाना एक त्रासदी नहीं मानती है, लेकिन उसे एक नायक के रूप में देखते है जिसने लोगों का जीवन बचाया है। कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल, मुंबई के नीतू मांडके कन्वेंशन सेंटर में आयोजित संगोष्ठी ने अंगदाताओं की उम्मीदों को न्यायसंगत बनाने के लिए पर्याप्त बुनियादी ढांचे और अंग प्रत्यारोपण केंद्रों को बनाने की आवश्यकता के बारे में भी चर्चा की| डॉ राम नारायण ने सभी का स्वागत किया| मौलाना वहिद्दूदीन ने इसे नेक काम बताते हुए कहा कि अंगदान धर्म संगत है | उन्होंने लोगों से अंगदान करने की अपील की | सर्जन और आध्यात्मिक गुरु डॉ शांतनु नागरकट्टी, वेदांत विजन की संस्थापिका श्रीमती जया रो, टाइम्स ग्रुप नई दिल्ली से योगाचार्य सुरक्षित गोस्वामी, डॉ रूएन मस्करेनहास सचिव एफआईएएमसी बायो-मेडिकल एथिक्स सेंटर मुंबई, यहूदी प्रतिनिधि ईलानित हिलेल गडकर जो यहूदी बच्चों को शिक्षा प्रदान करते है, डॉ संजय पांडे, गिफ्ट योर ऑर्गेन फाउंडेशन के संस्थापक समीर दुआ ने भी सेमिनार को संबोधित किया।


Ahimsa Vishwa Bharti USA Chapter Launched At New Jersey USA And India Should Work Together For World Peace- Acharya Lokesh Acharya Lokesh Warmly Welcomed In New Jersey USA

17-07-2018

Ahimsa Vishwa Bharti Foundation USA was inaugurated by Ambassador of Peace Acharya Dr. Lokesh Muni, Chairman of Federation of Indian American Shri Ramesh Patel, President of Federation of Indian Americans Shri Surjal Parikha, Padma Shri Dr. Sudhir Parikh from Parikh Worldwide Media, Editor India Abroad Rajeev Bhambri, Chairman of Ahimsa Vishwa Bharti Foundation USA Shri Anil Monga, President of AVBF USA Shri Piyush Patel, Vice President of AVBF USA Shri Karamjeet Singh Dhaliwal, COO of AVBF USA Dr. Raj Bhayani and USA team of Ahimsa Vishwa Bharti at New Jersey. Acharya Lokesh on the occasion said that USA and India should work together for World Peace and Harmony. Ahimsa Vishwa Bharti Organisation has been continuously making efforts from last 13 years not only in India but internationally to establish Peace, Harmony, Non-Violence and Brotherhood, to encourage human values. We work with the aim to associate religion with social work to eradicate social evils and bring society welfare. I have been coming to USA from last one decade. Here I have seen not only people of Indian origin, but people from different parts of the world serving society in a selfless manner. Residents of USA are already associated with the social welfare activities of Ahimsa Vishwa Bharti, with the establishment of a chapter in USA working here will be enhanced. I appeal to all the workers of Ahimsa Vishwa Bharti to work with more enthusiasm and dedication. Shri Anil Kumar Monga on this occasion said that the Ahimsa Vishva Bharti organisation under the leadership of Acharya Lokesh Muni will work by associating religion with social work for establishing peace and harmony in the society and for social development. People of America will also get an opportunity to be associated with such efforts by Ahimsa Vishwa Bharti chapter in USA this is a matter of great pleasure. Shri Ramesh Patel welcoming Acharya Lokesh Muni and congratulating Ahimsa Vishwa Bharti team said that Acharya Lokesh Munihas been continuously making efforts to establish world peace, harmony and promotion of yoga. He is known as Ambassador of Peace and Ambassador of Indian Culture worldwide. Shri Piyush Patel and Shri Karamjeet Singh Dhaliwal said that the working of Ahimsa Vishwa Bharti Foundation awareness towards religion and human values will increase among people and youth of USA. They will get an opportunity to know the Indian culture and contribute in development of USA. Dr. Sudhir Parikh and Rajeev Bambri said that the Ahimsa Vishwa Bharti chapter in USA were long awaited. Our team here will support the working of AVB in different parts of world. On the occasion Community Leader Pradeep Kothari, Past President Asian Indian Americans Sunil Modi, Past President FIA Shri Ankur Vaidya, CEO USA TV News Hemant Kaushik, Shri Professor Bipin Sangankar, Shri Jeetu Bhai Fadiya, Shri Kanak Golia, Shri Snehal Bhai Shah, Bill Mackay, Symrise, Rajni B Monga, Aruna Ben Fadiya, Tarkeshwari Mishra, Jyoti Ben patel, Kyle Monga, Sean Monga, Jay Mandal, Smt Kirti Das from Singapore were also present. Thanks & Regards, Kenu A. Sharma, Media Secretary, 9013346446

अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा का न्यूजर्सी में उदघाटन विश्व शांति के लिए अमेरिका और भारत एकजुट हों – आचार्य लोकेश आचार्य लोकेश का अमेरिका के न्यूजर्सी शहर में भव्य स्वागत

शान्तिदूत आचार्य डा. लोकेश मुनि द्वारा स्थापित संस्था अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा का उदघाटन आचार्य लोकेश मुनि, फेडरेशन ऑफ़ इंडियन अमेरिकन के चेयरमैन श्री रमेश पटेल, अध्यक्ष श्री सूरज पारेख, पारेख वर्ल्डवाइड मीडिया से पद्मश्री डा. सुधीर पारेख, इंडिया अब्रॉड के एडिटर श्री राजीव भाम्बरी, अहिंसा विश्व भारती फाउंडेशन USA के चेयरमैन श्री अनिल कुमार मोंगा, अध्यक्ष श्री पियुष पटेल, उपाध्यक्ष श्री करमजीत सिंह ढालीवाल, डा. राज भयानि, एवं अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका टीम की उपस्थिति में न्यूजर्सी में हुआ | आचार्य लोकेश ने इस अवसर पर कहा कि विश्व शांति और सद्भावना के लिए अमेरिका और भारत को एकजुट होकर काम करना होगा | अहिंसा विश्व भारती संस्था का भारत में ही नहीं अपितु विश्व में अहिंसा, शांति एवं सद्भावना की स्थापना, मानवीय मूल्यों के उत्थान, चरित्र निर्माण के क्षेत्र में गत 13 वर्षों से निरंतर प्रयासरत है | अहिंसा विश्व भारती संस्था की स्थापना के पीछे विशेष उद्देश्य रहा है धर्म को समाज सेवा से जोड़कर, उसे सामाजिक बुराईयों के मिटाने का माध्यम बनाना | मैं पिछले एक दशक के अमेरिका आ रहा हूँ | यहाँ पर न सिर्फ भारतीय मूल के निवासियों अपितु विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से आये लोगो को समाज की निष्काम भाव से सेवा करते हुए मैंने देखा है | अहिंसा विश्व भारती की गतिविधियों से यहाँ के निवासी पहले से ही जुड़े हुए है, अब विधिवत रूप से अमेरिका में एक शाखा होने से हमारे सामाजिक सेवा और मानवीय कार्यों को गति मिलेगी | मैं समस्त कार्यकर्ताओं से आह्वान करता हूँ कि विश्व शांति व सद्भावना की स्थापना व समाज के उत्थान के लिए और अधिक उत्साह और कर्मठता के कार्य करे | श्री रमेश पटेल ने आचार्य लोकेश मुनि का स्वागत और अहिंसा विश्व भारती के कार्यकर्ताओं को शुभकामनाये देते हुए कहा कि आचार्य लोकेश मुनि ने विश्व शांति, सद्भावना व योग के प्रचार के लिए निरंतर प्रयासरत रहते है | समस्त विश्व उन्हें शांतिदूत के नाम से जानता है, वें भारतीय संस्कृति के राजदूत है | श्री अनिल कुमार मोंगा ने इस अवसर पर कहा कि अहिंसा विश्व भारती संस्था आचार्य लोकेश मुनि के नेतृत्व में धर्म को समाज सेवा से जोड़कर समाज में सौहार्द व विकास के लिए काम कर रही है | यह हर्ष का विषय है कि अमेरिका निवासियों को भी इसके साथ जुड़ने का अवसर मिलेगा| डा. सुधीर पारेख एवं श्री राजीव भाम्बरी ने कहा कि लम्बे समय से अहिंसा विश्व भारती नकी मेरिका शाखा का इन्तजार था | हम अमेरिका के साथ साथ विश्व के विभिन्न भागों में अहिंसा विश्व भारती के कार्यों को फ़ैलाने की दिशा में काम करेंगे | श्री पियुष पटेल एवं श्री करमजीत सिंह ढालीवाल ने कहा कि अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा के माध्यम से अमेरिका निवासियों व युवा पीढ़ी की धर्म के प्रति आस्था बढ़ेगी और आपसी सौहार्द व मानवी मूल्यों के प्रति जागरूकता फैलेगी | वो भारतीय संस्कृति से रूबरू होंगे और अमेरिका के विकास में अपना योगदान देंगे| इस अवसर पर अहिंसा विश्व भारती अमेरिका शाखा के संस्थापक सदस्य कम्युनिटी लीडर श्री प्रदीप कोठारी, एशियण इंडियन के पूर्व अध्यक्ष श्री सुनील मोदी, श्री अंकुर वैद्य, USA TV न्यूज़ के CEO हेमंत कौशिक, प्रो. बिपिन संगन्कर, जीतू भाई फाडिया, कनक गोलिया, श्री स्नेहल भाई शाह, बिल मेके, रजनी मोंगा, अरुण बेन फाडिया, तारकेश्वरी मिश्र, ज्योति बेन पटेल, क्य्ले मोंगा, सीन मोंगा, जय मोंगा भी उपस्थित थे | सधन्यवाद, केनु अ. शर्मा, मिडिया सचिव, 9811025332


Acharya Lokesh Addressed International Yoga Day At United Nations PM Narendra Modi Gave Video Message On The Occassion

14-07-2018

India plays important role in taking Yoga to International masses- Acharya Lokesh 4th International Yoga day was celebrated with great enthusiasm at United Nations Headquarters in which thousands of people and many organisations from all over the world took part. The large gathering at the event proved that the popularity of Yoga is growing every year round the globe. His Holiness Acharya Lokesh Muni who has participated in 1st International Yoga Day at United Nations Headquarters with United Nations General Secretary Ban-Ki-Moon and External affairs Minister of India Smt. Sushma Swaraj also addressed 4th International Yoga Day at United Nations Headquarters in New York. Prime Minister of India gave video message on the occasion. Syed Akbaruddin India's permanent representative at the United Nations, Padmashri Dr. H. R. Nagendra founder vice chancellor of Swami Vivekananda Yoga Anusandhana Samsthana, Yogguru Swami Maheshwaranand ji, Indian Yoguru in USA Shri Amrit Desai, Brahmakumari Binni Sarin and Yoga experts from the corner of the globe lead the yog session and also addressed the gathering of thousands of people. Shri Narendra Modi in his video message said the Yoga is a state of equilibrium. Yoga is not a religion or physical exercises but a lifestyle. Doing our day to day activities with complete vigilance and awareness is yoga. Free from illness towards wellness is the path of yoga. Acharya Lokesh Muni said that India is playing an important role in taking Yoga to world masses. Yoga shows us the path towards making of supreme human, prosperous society and peaceful world. Yoga leads to internal and external peace. Yoga brings physical, mental and spiritual development in a person. Through Yoga Negative thinking is destroyed and positive thinking is formed through Yoga. Through yoga body, mind and soul moves ahead with positive works. Syed Akbaruddin on the occasion said that Yoga is symbol of Unity and strength. Countries from different parts of the worlds are coming together for Yoga. Making Yoga part of education can solve many global problems. Social and personal development is possible through yoga. Padma Shri H. R. Nagendra said that Yoga is very important in our daily life. By adapting Yoga in our daily life the dream of healthy, peaceful and prosperous life can become true. Yoga brings all round development of a person. In today’s busy and hectic life disease are easily caught, to overcome this yoga asans and pranayam should be part of our daily routine. Thanks & Regards, Kenu A. Sharma, Media Secretary, 9013346446

आचार्य लोकेश ने संयुक्त राष्ट्र में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को संबोधित किया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में विडियो सन्देश दिया

विश्व के जनमानस तक योग को पहुँचाने में भारत की अहम् भूमिका – आचार्य लोकेश संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को उत्साह के साथ मनाया गया जिसमें दुनिया भर के कई संगठनों व हजारों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में भारी संख्या में उपस्थित लोगो ने साबित किया कि योग की लोकप्रियता हर साल दुनिया भर में बढ़ रही है। परम पावन आचार्य लोकेश मुनि जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बन-की-मून यमन भारत की विदेश मंत्री श्रीमंती सुषमा स्वराज के साथ संयुक्त राष्ट्र संघ मुख्यालय में प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस में भाग लिया ने संयुक्त राष्ट्र संघ मुख्यालय न्युयार्क में आयोजित आयोजित चौथे अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को संबोधित किया| भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने इस अवसर पर वीडियो सन्देश दिया | संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन, स्वामी विवेकानंदा योग अनुसन्धान के संस्थापक कुलपति पद्मश्री डा. नागेन्द्र जी, योगगुरु स्वामी महेश्वरानन्द जी, अमेरिका में भारत के योगगुरु श्री अमृत देसाई, ब्रह्मकुमारी बिन्नी सरीन एवं विश्व के कोने कोने से पधारे योग विशेषज्ञों ने हजारों की संख्या में उपस्थित लोगो को योग कराया| अनेकों संस्थाओं के सहयोग से संयुक्त राष्ट्र संघ मुख्यालय पर आयोजित योग दिवस में लोगो ने न सिर्फ योग किया अपितो उपस्थित मह्नुभावों को मंत्रमुग्ध होकर सुना | श्री नरेंद्र मोदी ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि योग संतुलन की स्थिति है। योग कोई धर्म या शारीरिक व्यायाम नहीं यह एक जीवन शैली है जिसको अपनाने से स्वस्थ, शांतिप्रिय व समृद्ध जीवन की कल्पना साकार हो सकती है| पूर्ण सतर्कता और जागरूकता के साथ हमारी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को करना योग है। बीमारी से मुक्त होकर स्वस्थ जीवनशैली योग का मार्ग है। आचार्य डा. लोकेश मुनि ने इस अवसर पर कहा कि विश्व जनमानस तक योग को पहुँचाने में भारत की अहम् भूमिका है | योग से श्रेष्ठ मानव, समृद्ध समाज व शांतिप्रिय विश्व का निर्माण संभव है| योग से आन्तरिक व बाहरी शांति प्राप्त की जा सकती है| योग के माध्यम से नकारात्मक सोच नष्ट हो जाती है और सकारात्मक सोच योग के माध्यम से बनाई जाती है| योग शरीर के माध्यम से, मन और आत्मा सकारात्मक कार्यों के साथ आगे बढ़ती है। सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि योग एकता और ताकत का प्रतीक है| आज योग के माध्यम से विश्व के विभिन्न देश एक उद्देश्य से साथ जुड़े है | योग को शिक्षा से जोड़ने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान मुमकिन है| इससे व्यक्तिगत व सामाजिक विकास भी संभव है| पद्मश्री नागेन्द्र जी ने कहा कि योग का दैनिक जीवन में बड़ा महत्त्व है| योग से मनुष्य का शारीरिक, मानसिक व आध्यात्मिक विकास होता है| भागदौड़ भरी जिंदगी में बीमारियाँ भी अपना पैर पसार रही हैं इन सबके बीच मनुष्य को यदि स्वस्थ रहना है तो योग आसन प्राणायाम को अपने जीवन में स्थान देना होगा | योग मात्र शारीरिक क्रिया नहीं है, वरन् यह एक सम्पूर्ण जीवन शैली को सुधारने का नाम भी है। सधन्यवाद, केनु अ. शर्मा, मिडिया सचिव, 9811025332


Acharya Lokesh Warmly Welcomed On Reaching Canada First Time Acharya Lokesh Will Address Various Programs Including The United Nations On International Yoga Day

14-07-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni during World Peace and Harmony tour was warmly welcomed by the Toronto Convention Center, Swaminarayan Temple, Hindu Society Durga Temple and other organisations on reaching Canada first time on arrival in Canada. Eminent thinker, Ambassador of Peace Acharya Dr. Lokesh Muni while addressing the Indian community said that on the basis of your efforts, you have glorified India and Canada on the global horizon. He said that presently India is the world's fastest growing economy. Multicultural culture is its identity. Prime Minister of Canada recently came to India. Together India and Canada can fight against terrorism, violence and poverty. Acharya Lokesh said that the religion does not oppose development. When materialistic development is based on the foundation of spirituality, then life becomes a boon or else it becomes a curse. He appealed to the people of Indian origin to be associated with their motherland and culture and said that in present times of ideological and cultural pollution, we all have the responsibility of preserving and promoting the great Indian culture of sacrifice, humanity and unity in diversity. On the occasion Swami Amamd Setuji, Basant Chitra Gupta, Shri Chandra Shekhar, Shri Vinay Agarwal, Shri Vimal Jain welcomed Acharya Shri on behalf of different organisations. Ahimsa Vishwa Bharti spokesman said that Acharya Lokesh will participate in 'Interreligious prayer for Peace' organized in New York on June 13. On June 16, at a special ceremony in New Jersey, Indian Ambassador Sandeep Chakrabarty will welcome Acharya Lokesh Muni. On this occasion, Ahimsa Vishwa Bharti's US branch will also be inaugurated. Acharya Lokesh will participate in International Yoga Day held organised at United Nations Headquaters on 20th and 21st of June in New York and will send a message on yoga. Acharya Lokesh will address a special program organized jointly by the Embassy of India and the Vivekananda Center in Chicago on June 24. He will address the interfaith conference on June 30 under the Silver Jubilee celebrations of the Chicago Jain Center. On July 2 he will depart for India. Thanks & Regards, Kenu A. Sharma, Media Secretary, 9013346446

कनाडा आगमन पर आचार्य लोकेश का भव्य स्वागत अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर संयुक्त राष्ट्र संघ सहित विविध कार्यक्रमों में आचार्य लोकेश भाग लेंगे

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डॉ लोकेश मुनिजी का विश्व शांति सदभावना यात्रा के तहत प्रथम बार कनाडा आगमन पर टोरन्टो कन्वेंशन सेंटर, स्वामीनारायण मन्दिर, हिन्दू सोसायटी दुर्गा टेम्पल आदि संस्थानों द्वारा भव्य स्वागत किया गया| प्रखर चिंतक, अम्बेसडर आफ पीस आचार्य डॉ लोकेश मुनिजी ने भारतीय समुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा कि आपने अपने पुरुषार्थ के बल पर भारत व कनाडा का नाम विश्व क्षितिज पर रोशन किया है। उन्होंने कहा इस समय भारत विश्व की तेज़ी से उभरती अर्थ व्यवस्था है।बहुलतावादी संस्कृति उसकी पहचान है । पिछले दिनों कनाडा के प्रधानमंत्री भारत आए थे।भारत व कनाडा मिलकर आतंकवाद हिंसा व ग़रीबी के ख़िलाफ़ लड़ सकते है। आचार्य लोकेश ने कहा कि धर्म का विकास से विरोध नहीं है | भौतिक विकास अध्यात्म की नींव आधारित होता है तब जीवन में वरदान बनता है वरना अभिशाप बन जाता है | उन्होंने भारतीय मूल के लोगों को अपनी माटी व संस्कृति से जुड़े रहने का आव्हान करते हुए कहा कि वैचारिक व सांस्कृतिक प्रदूषण के दौर में अनेकता मे एकता वाली महान त्याग व सेवा मयी भारतीय संस्कृति के संरक्षण व संवर्धन का हम सबका दायित्व है| इस अवसर पर स्वामी आनन्द सेतुजी, बसंत चित्रा गुप्ताजी श्री चन्द्र शेखरजी, श्री विनय अग्रवालजी, श्री विमल जैनजी आदि ने विविध संस्थाओं की ओर से आचार्य प्रवर का भावपूर्ण स्वागत किया | अहिंसा विश्व भारती प्रवक्ता ने बताया कि आचार्य लोकेश 13 जून को न्यूयॉर्क में आयोजित ‘शांति के लिए अंतरधार्मिक प्रार्थना’ में भाग लेंगे |16 जून को न्यूजर्सी में एक विशिष्ठ समारोह में न्यूयॉर्क में भारत के राजदूत संदीप चक्रबर्ती आचार्य लोकेश मुनि का स्वागत करेंगे | इस अवसर पर अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा का शुभारम्भ भी होगा | आचार्य लोकेश 20 व 21 जून को संयुक्त राष्ट्र संघ न्यूयॉर्क में आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस में भाग लेंगे और योग पर सन्देश देंगे | शिकागो में भारत के दूतावास एवं विवेकानन्द सेंटर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित एक विशेष कार्यक्रम को आचार्य लोकेश 24 जून को संबोधित करेंगे व शिकागो जैन सेंटर की रजत जयंती समारोह के अंतर्गत 30 जून को आयोजित अंतरधार्मिक सम्मेलन को आचार्य लोकेश संबोधित करेंगे।तथा 2 जुलाई को भारत हेतु प्रस्थान करेंगे। सधन्यवाद, केनु अ. शर्मा, मिडिया सचिव, 9811025332


Acharya Lokesh Addressed ‘Non Violence And Peaceful Coexistence’ On International Yoga Day At Temple In New York

12-07-2018

Yoga leads to Peace of Mind and World Peace- Acharya Lokesh Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni during his Peace, Harmony and Yoga tour to USA addressed the seminar ‘Non-Violence and Peaceful-Coexistence’ as Chief guest and Key Note speaker organised by Mahatma Gandhi Peace Foundation to celebrate International Yoga Day. People were amazed to see small children performing Yoga in the program organised at Sarvamangala Shri Saneeswara Temple New York. Prof. Bipin Sangankar gave Acharya Dr. Lokesh Muni Ji’s introduction and Mrs. Umsa Sen Gupta welcomed Acharya Ji. Shri Vishal Khera presented music and Shridhar ji was also present on the occasion. Ambassador of Peace Jain Acharya Dr. Lokesh Muni delivering the inaugural speech said that peace of mind should be achieved before world peace. Peace of mind can be achieved through Yoga. Yoga by different members of the society leads to world peace. Acharya Lokesh quoting Bhagwan Mahavir philosophy said that the principle of non-violence says that violence gives rise to counter violence. War, violence and terrorism cannot solve any problem. All problems can be solved through dialogue. Unity in diversity philosophy says that we should respect the existence and ideas of others as our own existence. The non possessiveness principle says that if your brother is hungry and you eat a lot then you are not entitles for Moksha or ultimate salvation. He said that by adapting principles of Lord Mahavira into life, we can create peaceful society. Acharya Lokesh in the presence of large gathering emphasising the importance of Peace Education and Training of Non Violece said that Value Based and Peace Education should be integral part of education system so that cultural generation can be created. Peace education can be foundation for Wold Peace. War is first created in mind then fought on ground. There is a need train human mind in a way so that it constantly make effort towards establishing Peace and Harmony. Thanks & Regards, Kenu A. Sharma, Media Secretary, 9013346446

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आचार्य लोकेश ने न्यूयॉर्क में योग के महत्त्व के साथ ‘अहिंसा व शांतिपूर्ण सहस्तित्व’ पर सन्देश दिया

योग के माध्यम से मन की शांति व विश्व शांति संभव – आचार्य लोकेश अमेरिका की शांति, सद्भावना व योग यात्रा के दौरान अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश ने न्यूयॉर्क में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर महात्मा गाँधी पीस फाउंडेशन इंटरनेशनल द्वारा ‘अहिंसा व शांतिपूर्ण सहस्तित्व’ विषय को मुख्य अथिति व प्रमुख वक्ता के रूप में संबोधित किया | न्यूयॉर्क के सर्वमंगल श्री सनेस्वर मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में नन्हे मुन्हे बच्चों ने योग कर सबको मंत्र मुग्ध कर दिया | कार्यक्रम में प्रो. बिपिन संगन्कर ने आचार्य लोकेश मुनि जी का परिचय दिया व श्रीमती उमासेन गुप्ता ने आचार्य जी का स्वागत किया | इस अवसर पर श्री विशाल खेरा ने संगीत प्रस्तुत किया | श्रीधर जी भी कार्यक्रम में उपस्थित थे | शान्तिदूत जैन आचार्य लोकेश मुनि ने उदघाटन भाषण में कहा कि विश्व शांति से पहले मन की शांति आवश्यक है | योग के माध्यम से मन की शांति हासिल की जा सकती है | योग के माध्यम से मान की शांति के साथ विश्व शांति स्थापित करना संभव है | आचार्य लोकेश ने भगवान महावीर की वाणी का उल्लेख करते हुए कहा कि अहिंसा का सिद्धांत कहता है हिंसा प्रतिहिंसा को जन्म देती है, युद्ध, हिंसा और आतंकवाद किसी समस्या का समाधान नहीं है| संवाद के द्वारा हर समस्या का समाधान मुमकिन है| अनेकांत दर्शन कहता है कि हम अपने अस्तित्व की तरह दूसरों के अस्तित्व और विचारों का सम्मान करना सीखे| अपरिग्रह सिद्धांत कहता है कि तुम्हारा भाई भूखा सोता है और तुम भरपेट खाते हो तो तुम मोक्ष के अधिकारी नहीं हों | उन्होंने कहा कि भगवान महावीर के सिद्धांतों को जीवन में उतार कर हम समाज में शांतिपूर्ण सहस्तित्व स्थापित कर सकते है| आचार्य लोकेश ने विशाल जनसमूह के समक्ष पीस एजुकेशन व अहिंसा प्रशिक्षण के महत्त्व को रेखांकित करते हुए कहा कि मूल्य परक एवं पीस एजुकेशन को शिक्षा में शामिल करना चाहिए ताकि हम एक संस्कारवान पीढ़ी का निर्माण कर सके | पीस एजुकेशन विश्व शांति का आधार बन सकती है | युद्ध पहले मस्तिष्क में उत्पन्न होता है फिर मैदान में लड़ा जाता है | आवश्यकता है मस्तिष्क को इस प्रकार से शिक्षित करने की जिससे वो शांति व सद्भावना की स्थापना के लिए निरंतर प्रयासरत रहे | सधन्यवाद, केनु अ. शर्मा, मिडिया सचिव, 9811025332


Ramesh Bhai Ojha, Acharya Lokesh and many saints inaugurated the International Vaishnav Convention in New Jersey Social Harmony and Development is possible through Spirituality - Acharya Lokesh

07-07-2018

International Vaishnava Convention was inaugurated by Vaishnavacharya Goswami 108 Shri Vrajraj Kumar ji, Eminent preacher Shri Ramesh Bhai Ojha, Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni, Vaishnavacharya Goswami 108 Shri Dhrumilkumar, Jagadguru Shrimad Vallabhacharyaji, Shri Hariprasad Swami ji Swaminarayan Mandir Sri Brahmavihari Swami Ji, Shri Jasbhai Saheb of Anupam Mission, President of Anupam Mission Swami Chidananda Saraswati Ji, Avichldas Maharajshri, Sadhvi Bhagwati and eminent religious leaders in New Jersey Convention and Exposition. Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Lokesh Muni addressing the topic of 'love and happiness through spirituality' said that religion has three dimensions, worship, morality and spirituality. Following the moral values, when we are on the path of spirituality, love and happiness are created in the society. People worship but do not bring moral and character values in your life. This is the reason that many distortions are created in the society. Following the path of spirituality it is possible to social harmony and social development. Eminent preacher Shri Ramesh Bhai Ojha said that God understands the language of love. It is possible to reach god through good deeds, eternal truth and satsanga. Every individual in the society should be connected to religion and spirituality for social welfare. He said that the lives of the saints are dedicated to the welfare of the people and through the medium of the saints, God conveys his point of view to people. Many world famous saints will discuss spiritualism, religion and social welfare in the three-day convention.

रमेश भाई ओझा, आचार्य लोकेश व अनेक संतों ने किया अन्तर्राष्ट्रीय वैष्णव कन्वेंशन का न्यू जर्सी में उदघाटन अध्यात्म के माध्यम से सामाजिक एकता और विकास संभव - आचार्य लोकेश

अन्तर्राष्ट्रीय वैष्णव कन्वेंशन का उदघाटन वैष्णवाचार्य गोस्वामी 108 श्री वृज राज कुमार जी, प्रख्यात कथावाचक श्री रमेश भाई ओझा, अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डा. लोकेश मुनि, वैष्णवाचार्य गोस्वामी 108 श्री ध्रुमिलकुमार, जगद्गुरु श्रीमद वल्लभाचार्यजी, श्री हरिप्रसाद स्वामी जी, स्वामीनारायण मंदिर से श्री ब्रह्मविहारी स्वामी जी, अनुपम मिशन से श्री जस्भई साहेब, परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती जी, अविचलदास महाराजश्री, साध्वी भगवती व अनेक प्रख्यात धर्म गुरुओं ने न्यू जर्सी कन्वेंशन एंड एक्सपोसिशन में किया | अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश ने ‘आध्यात्म द्वारा प्रेम और प्रसन्नता’ विषय को संबोधित करते हुए कहा कि धर्म के तीन आयाम है, उपासना, नैतिकता और अध्यात्म | नैतिक मूल्यों का पालन करते हुए जब हम अध्यात्म के मार्ग पर अग्रसर होते हैं तो समाज में प्रेम और प्रसन्नता का संचार होता है | आप लोग उपासना तो करते है पर नैतिक और चारित्रिक मूल्यों को अपनी जीवन में नहीं उतारते यही कारण है समाज में अनेक विकृतियाँ पैदा हो रही है | अध्यात्म के मार्ग पर चलने से सामाजिक एकता व समाज का विकास संभव है | प्रख्यात कथाकार श्री रमेश भाई ओझा ने कहा कि परमात्मा प्रेम की भाषा समझता है और मिलता भी है | नित्य सत्कर्म और सत्संग से प्रभु की प्राप्ति होती है | समाज से उत्थान के लिए व्यक्ति विशेष का धर्म व अध्यात्म से जुड़ना जरुरी है | उन्होंने कहा संतों का जीवन लोक कल्याण के लिए समर्पित रहता है तथा संतों क माध्यम से ही भगवान अपनी बात जनमानस तक पहुंचाते है | तीन दिन तक चलने वाली कन्वेंशन में अनेक विश्व विख्यात संत अध्यात्म, धर्म और समाज कल्याण पर चर्चा करेंगे |


Acharya Lokesh and Mayor Ginther inaugurated AAPI Convention AAPI has big contribution in medical services of USA - Acharya Lokesh

06-07-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Jain Acharya Dr Lokesh Muni and Mayor Mr. Andrew Ginther inaugurated the 36th Annual Convention of American Association of Physicians of Indian Origin (AAPI), the largest organization of doctors of Indian origin in America at the Greater Columbus Convention Centre Ohio, USA. At the 36th Annual Convention thousands of doctors of Indian origin and several prestigious dignitaries were present. Acharya Lokesh said that doctors do great human services of society. All doctors take Hippocratic Oath before beginning the medical profession, according to which they will treat the sick person with the intention of serving them and not earning money. All the doctors are serving the society with this feeling, for which they deserve praise. Thousands of Indian-origin doctors are providing medical services in the villages of America, which is being possible with the efforts and cooperation of the AAPI. Those villages where American doctor are reluctant to go, the doctor of Indian origin are going and providing medical services, this is a great social service. Acharya Lokesh said that an organised and balanced lifestyle plays an important role in the maintaining a healthy body. Yoga and meditation also have significant contribution in physical and mental health. A person is healthy only when he is mentally, physically and socially healthy. If the mind is healthy then the body can also be healthy. Acharya Dr. Lokesh Muni suggested that we should once the AAPI Convention should be organised in India, so that the young generation will get an opportunity to be associated with Indian soil and will also encourage tourism. Thousands of doctors present welcomed the recommendation of Acharya Shri from the round of applause. Mayor Mr. Andrew Ginther said that for the last several decades, medical students and doctors of Indian origin are with the support from AAPI are providing medical services in America. Congratulating thousands of doctors and students on the he appreciated that they are also doing social service. Chairman, Ahimsa Vishwa Bharti Foundation USA Mr. Anil Kumar Monga was also present on this occasion. President of AAP Dr. Gautam Samadder, Chairman Dr. John Johnson welcomed Acharya Dr. Lokesh Muni on this occasion. Advisor Dr. Ajeet Kothari, Treasurer Dr. Yeshwant Reddy, Co-Chair Dr. Deepak Azad, Dr. Tapas Dasgupta, Dr. Satish Mahna, Dr. Rajbir Minhas, Dr. Suresh Sharoff, Sponsor Dr. Dalsukh Madiya, Dr. Jagdish Urs , Dr. P.K. Natarajan, Dr. Jagat Narula, Dr. Rupesh Raina, Dr. Uday Shivangi gave full support in organising the conference.

आचार्य लोकेश एवं मेयर एंड्रयू ने आपी कन्वेंशन 2018 का उद्घाटन किया अमेरिका के चिकित्सा सेवा क्षेत्र में आपी का महत्वपूर्ण योगदान – आचार्य लोकेश

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि ने अमेंरिका में डाक्टरों के सबसे बड़े संगठन अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ़ फिसिशियंस ऑफ़ इंडियन ओरिजिन (आपी) के वार्षिक सम्मेलन 2018, का ग्रेटर कोल्मब्स कन्वेंशन सेंटर में उद्घाटन किया तथा 36 वें वार्षिक सम्मेलन में हजारों की संख्या में उपस्थित भारतीय मूल के डाक्टरों को संबोधित किया | इस अवसर पर अनेक प्रतिष्ठित महानुभाव उपस्थित थे | आचार्य लोकेश ने कहा कि डाक्टर समाज की महान मानवीय सेवा करते है | सभी डाक्टर चिकित्सा प्रदान करना शुरू करने से पहले हिपोक्रीत्ज़ की शपथ लेते है जिसके मुताबिक वो सेवा भाव से बीमार व्यक्ति का ईलाज करेंगे न की पैसे कमाने के उद्देश्य से | सभी डाक्टर इसी भाव से समाज की सेवा कर रहे है इसके लिए वो प्रशंसा के पात्र हैं | हजारों भारतीय मूल के डाक्टर अमेरिका के गांवों में जाकर मेडिकल सेवा दे रहे हैं जो आपी के प्रयासों व सहयोग से संभव हो पा रहा है | जिन गांवों में अमेरिका के डाक्टर जाने से घबराते हैं वहां भारतीय मूल के डाक्टर जाकर बीमार लोगो का ईलाज कर रहे है यह एक महान समाज सेवा है | आचार्य लोकेश ने कहा कि एक व्यवस्थित और संतुलित जीवन शैली स्वस्थ शरीर की संरचना में अहम भूमिका निभाती है | योग और मैडिटेशन का भी शारीरिक व मानसिक स्वास्थ में महत्पूर्ण योगदान है | एक व्यक्ति तभी स्वस्थ है जब वह मानसिक, शारीरिक व सामाजिक रूप से स्वस्थ है | यदि मन स्वस्थ है तभी शरीर भी स्वस्थ हो सकता है | आचार्य डॉ लोकेश मुनि ने, एक बार भारत की धरती पर आपी कन्वेंशन करने का सुझाव दिया जिससे नई पीढ़ी को माटी से जुड़ने का मौक़ा मिलेगा तथा पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा| उपस्थित हज़ारों डॉक्टरों ने तालियों की गड़गड़ाहट से आचार्य श्री के सुझाव का स्वागत किया| मेयर श्री एंड्रू गिन्थर ने कहा कि पिछले कई दशकों से आपी अमेरिका में भारतीय मूल के मेडिकल छात्रों और डाक्टरों सहयोग डे रही है जिससे वो अमेरिका में चिकित्सा प्रदान कर सके | उन्होंने आपी से जुड़े हजारों डॉक्टरों और छात्रों को इस अवसर पर शुभकामनायें देते इस बात की सराहना की कि आपी समाज सेवा भी कर रही है | अहिंसा विश्व भारती फाउंडेशन USA के चेयरमैन श्री अनिल कुमार मोंगा भी इस अवसर पर उपस्थित थे | आपी के अध्यक्ष डा. गौतम समद्दर, चेयरमैन डा. जॉन जॉनसन ने आचार्य डा. लोकेश मुनि का इस अवसर पर स्वागत किया | सलाहकार डा. अजीत कोठारी, कोषाध्यक्ष डा. यशवंत रेड्डी, सह चेयर डा. दीपक आज़ाद, डा. तापस दास गुप्ता, डा. सतीश महना, डा. राजबीर मिन्हास, डा. सुरेश सर्राफ, प्रायोजक डा. दाल्सुख माडिया, डा. जगदीश उर्स, डा. पी.के. नटराजन, डा. जगत नरूला, डा. रुपेश रैना, डा. उदय शिवांगी ने सम्मेलन के आयोजन में सम्पूर्ण सहयोग दिया |


Acharya Lokesh welcomed at Consulate General of India, Chicago ‘A World without Violence- Spiritual Discourse’ held at Indian Consulate Violence cannot solve problems, dialogue is the right path for peace - Acharya Lokesh

06-07-2018

Consulate General of India in Chicago Neeta Bhushan welcomed and honored Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Jain Acharya Dr. Lokesh Muni at the Consulate General of India in Chicago. On this occasion ‘A World without violence- A Spiritual discourse’ was organized. Consulate General Nita Bhushan welcomed Acharya Lokesh Muni and said that he has often heard the statement of Acharya Lokesh on nonviolence, harmony and peace. Acharya Lokesh has made Spirituality the medium of establishing nonviolence, peace and harmony in the world, it is highly appreciable. This seminar has been organized at the Consulate General of India in Chicago with the aim of bringing USA and India together to create a world without violence. We all want peace; we have to make efforts for that. It is necessary to adopt non-violence for peace. Acharya Lokesh addressing the gathering said that the world which is standing on the volcano of destruction can only be saved through the path of non-violence. People living in the panic of terror are not concerned with truth, neither love nor non-violence, this is the present weakness, this is our compulsion. The path of non-violence and harmony is extremely important to overcome the suffering of today's human beings. There is a need of experimental training of non-violence. Nonviolence is the path through which a healthy society can be created. Violence does not solve any problem. Violence raises repetitiveness. Through dialogue based on the principles of non violence every problem can be resolved. Prabodh Vaidya, Chief Sponsor of the Chicago Jain Society Silver Jubilee celebrations gave information about Acharya Lokesh's worldwide humanitarian programs, saying that Acharya Lokesh has linked the religion to social service and has shown world the path of world peace and harmony this has benefited the world. Motivational speaker Rahul Kapoor and famous singer Vicky Parekh presented the newly published introduction folder of Ahimsa Vishwa Bharti and Minal Shah to the self written book to Consulate General Nita Bhushan. Shri Kishore Bhai Shah, Senior Officer of the Chicago Jain Union, Shri Mahendra Bhai Kusum Ben Shah , Ashok Shah thanked Consulate General Neeta Bhushan for organizing the program on behalf of the Consulate General of India, Chicago.

आचार्य लोकेश का शिकागो के भारतीय दूतावास में भव्य स्वागत ‘हिंसा मुक्त विश्व - आध्यात्मिक प्रवचन’ का शिकागो के भारतीय दूतावास में आयोजन हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं, संवाद शांति का उचित मार्ग – आचार्य लोकेश

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि का शिकागो के भारतीय दूतावास में भारत की राजदूत नीता भूषण ने भव्य स्वागत किया | इस अवसर पर ‘हिंसा मुक्त विश्व - अध्यात्मिक प्रवचन’ का आयोजन किया गया | राजदूत नीता भूषण ने आचार्य लोकेश मुनि का स्वागत करते हुए कहा कि उन्होंने कई बार आचार्य लोकेश के अहिंसा, सद्भावना और शांति पर वक्तव्य सुने है | आचार्य लोकेश ने अध्यात्म को विश्व में अहिंसा, शांति ओ सद्भावना की स्थापना का माध्यम बनाया है, यह बेहद प्रशंसनीय है | अमेरिका और भारत एक साथ ‘हिंसा मुक्त विश्व’ की कल्पना को पूरा करे इसी उद्देश्य से शिकागो में भारतीय दूतावास में इस संगोष्ठी का आयोजन किया गया है | हम सभी शांति चाहते है, उसके लिए हमें प्रयास करने होंगे| शांति के लिए अहिंसा को अपनाना आवश्यक है | आचार्य लोकेश ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि विश्व जिस विनाश की ज्वालामुखी पर खड़ा है उससे केवल अहिंसा के मार्ग पर चलकर ही बचाया जा सकता है | आतंक के सायें में जी रहे लोग न सत्य, न प्रेम और न अहिंसा से सरोकार रखते है, यही वर्तमान की कमजोरी है , यही हमारी विवशता है | आज के मानव के दुखों को दूर करने के लिए अहिंसा व सद्भाव का मार्ग बेहद महत्वपूर्ण है | अपेक्षा है अहिंसा के प्रायोगिक प्रशिक्षण की | अहिंसा ही वह मार्ग है जिस पर चलकर स्वस्थ समाज का निर्माण हो सकता है | हिंसा से किसी समस्या का समाधान संभव नहीं होता है | हिंसा प्रतिहिंसा को जन्म देती है | संवाद के द्वारा, वार्ता के द्वारा, अहिंसात्मक शैली से हर समस्या को सुलझाया जा सकता है | शिकागो जैन सोसायटी रजत जयन्ती समारोह के मुख्य प्रायोजक प्रबोध वैद्य ने आचार्य लोकेश के विश्वव्यापी मानवतावादी कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए कहा कि आचार्य लोकेश के ने धर्म को समाज सेवा से जोड़कर उससे विश्व शांति और सद्भावना का मार्ग दुनिया को दिखाया है इससे विश्व जनमानस लाभान्वित हो रहा है | मोटिवेशनल स्पीकर राहुल कपूर व प्रसिद्ध संगायक विक्की पारेख ने अहिंसा विश्व भारती के नव प्रकाशित परिचय फ़ोल्डर व मीनल शाह ने स्व लिखित ग्रन्थ राजदूत नीता भूषण को भेंट किया।।शिकागो जैन संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी श्री किशोर भाई शाह, श्री महेन्द्र भाई कुसुम बेन शाह, अशोक शाह ने राजदूत नीता भूषण का शिकागो दूतावास की ओर से कार्यक्रम आयोजित करने के लिए धन्यवाद दिया।


Acharya Lokesh honored with Distinguished Service Award in the US Jain Philosophy important for World Peace and Harmony- PM Modi US and India should together fight terrorism, poverty - Acharya Lokesh

01-07-2018

Founder of Ahimsa Viswa Bharti Jain Acharya Dr. Lokesh Muni is honored with 'Distinguished Service Award' in USA. During the silver jubilee celebration of the Chicago Jain Center, Trustee Michael E. Camerer and Trustee Raymond H. Deyne of Bartlett Illinois, Chairman Mr. Atul Shah, President Mr Vipul Shah honored Acharya Lokesh with the award. Prime Minister of India in his video message congratulation Jain Community on Silver Jubilee celebration of Chicago Jain centre said that this has been the focal point in imparting spiritual and social serviced to the society. Jain philosophy is important for world peace and harmony. Let this anniversary be a wonderful opportunity to celebrate ever relevant Jain vision of peaceful and harmonious world. Acharya Lokesh Muni said on the occasion that connecting religion with social service and making it the medium to eradicate social evils is the need of present times. Religion is always associated with social service in both America and India. Today, world population is battling with problems like violence, terrorism and poverty. America and India should fight against them by looking for solutions to these problems together. The Jain community, which follows the path of non-violence, is promoting non-violence in India and is making significant contributions to the development of the country, is also very prominent in the establishment of non-violence and development in America. Michael E. Camerer and Raymond H. Deyne on the occasion said that India is a very large democracy. It is the upcoming economic power in the world. In the coming years India will play an important role on international platform. Shri Atul Shah and Mr. Vipul Shah said that Acharya Lokesh Muni has been making significant contribution in the establishment of world peace and harmony by promoting Jainism and Indian culture for the last several years. It is a privilege for us that the Jain community in US has been receiving guidance from Acharya Lokesh Muni Ji from time to time. He has apprehended every Indian and Jain follower by spreading the message of non-violence, peace and harmony a prominent feature of Indian culture by addressing many prestigious forums. It is noteworthy that Acharya Dr. Lokesh Muni has been honored with ‘National Communal Harmony Award’ by Government of India, ‘Ambassador of Peace’ at United Nations Centre and by London Parliament, ‘Key to Milpitas’ in previous years. Samni Malaypragya Ji, Social worker Shri Mafat Bhai Patel, Jain Philosophy Scholar Shri Lalit Dhami, Lawyer Shri Narender Nandu, Motivational speaker Shri Rahul Kapoor and Musician Shri Ashish Jain were present on the occasion. Children, Youth and Women presented cultural program.

रमेश भाई ओझा, आचार्य लोकेश व अनेक संतों ने किया अन्तर्राष्ट्रीय वैष्णव कन्वेंशन का न्यू जर्सी में उदघाटन अध्यात्म के माध्यम से सामाजिक एकता और विकास संभव - आचार्य लोकेश

अन्तर्राष्ट्रीय वैष्णव कन्वेंशन का न्यू जर्सी कन्वेंशन एंड एक्सपोसिशन में वैष्णवाचार्य गोस्वामी 108 श्री वृज राज कुमार जी, प्रख्यात कथावाचक श्री रमेश भाई ओझा, अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डा. लोकेश मुनि, वैष्णवाचार्य गोस्वामी 108 श्री ध्रुमिलकुमार, जगद्गुरु श्रीमद वल्लभाचार्यजी, श्री हरिप्रसाद स्वामी जी, स्वामीनारायण मंदिर से श्री ब्रह्मविहारी स्वामी जी, अनुपम मिशन से श्री जस्भई साहेब, परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती जी, अविचलदास महाराजश्री, साध्वी भगवती व अनेक प्रख्यात धर्म गुरुओं ने किया | अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश ने ‘आध्यात्म द्वारा प्रेम और प्रसन्नता’ विषय को संबोधित करते हुए कहा कि धर्म के तीन आयाम है, उपासना, नैतिकता और अध्यात्म | नैतिक मूल्यों का पालन करते हुए जब हम अध्यात्म के मार्ग पर अग्रसर होते हैं तो समाज में प्रेम और प्रसन्नता का संचार होता है | आप लोग उपासना तो करते है पर नैतिक और चारित्रिक मूल्यों को अपनी जीवन में नहीं उतारते यही कारण है समाज में अनेक विकृतियाँ पैदा हो रही है | अध्यात्म के मार्ग पर चलने से सामाजिक एकता व समाज का विकास संभव है | प्रख्यात कथाकार श्री रमेश भाई ओझा ने कहा कि परमात्मा प्रेम की भाषा समझता है और मिलता भी है | नित्य सत्कर्म और सत्संग से प्रभु की प्राप्ति होती है | समाज से उत्थान के लिए व्यक्ति विशेष का धर्म व अध्यात्म से जुड़ना जरुरी है | उन्होंने कहा संतों का जीवन लोक कल्याण के लिए समर्पित रहता है तथा संतों क माध्यम से ही भगवान अपनी बात जनमानस तक पहुंचाते है | तीन दिन तक चलने वाली कन्वेंशन में अनेक विश्व विख्यात संत अध्यात्म, धर्म और समाज कल्याण पर चर्चा करेंगे |


Indian Ambassador in Chicago addressed Silver Jubilee of Jain Centre Indian Culture has Positive Impact on American Society - Neeta Bhushan Jain community always works for social development - Acharya Lokesh

27-06-2018

Consulate General of India to Chicago Ms. Nita Bhushan, Acharya Dr. Lokesh Muni ji, Swastishri Bhattarak ji, Swami Shrutpragya ji addressed the Silver Jubilee Celebration of the Chicago Jain Centre. Chairman of Chicago Jain Center Shri Atul Shah, President, Shri Vipul Shah welcomed Neeta Bhushan. Consulate General of India to Chicago Ms. Nita Bhushan congratulating all the office bearers of Jain Centre and Jain community on Silver Jubilee said that Indian culture has a positive impact on American society. American citizens with the most modern facilities are attracting and adopting India's yoga, meditation and culture. Jain Centre is involved with many social welfare activities and establishing nonviolence, peace and harmony in the society, they deserve praise for this. Acharya Dr. Lokesh doing remarkable work by promoting Indian Culture and Jain Religion in different parts of the world for mass welfare. Acharya Lokesh Muni is glorifying India and every Indian. Ambassador of Peace Acharya Dr. Lokesh Muni said that Nita Bhushan ji participation in the Silver Jubilee celebrations of the Chicago Jain Centre is a matter of honour for us. Nita Bhushan is the daughter of Bihar and Lord Mahavir was born in Bihar too. Followers of teachings of Lord Mahavira Jain community have a significant contribution in the development and welfare of society. Today, the world is adopting yoga, yoga is an integral part of Jain religion. The statue of 24 Tirthankars of Jain religion are in Yoga posture. More than 4000 people come in different programs every day at the Chicago Jain Centre. The Chicago Jain Centre is also very active in the propagation of the Indian culture, along with the great influence of Jainism in America. On this occasion Nita Bhushan announced that on July 2, Consulate General of India to Chicago, Acharya Dr. Lokesh Muni Ji will be welcomed and honored. A grand program will be organized on this occasion.

शिकागो में भारत की राजदूत ने जैन सेंटर के रजत जयंती को संबोधित किया भारतीय संस्कृति का अमेरिकी समाज पर सकारात्मक प्रभाव - नीता भूषण अहिंसक जैन समुदाय का समाज कल्याण में महत्वपूर्ण योगदान – आचार्य लोकेश

शिकागो जैन सेंटर के रजत जयंती समारोह को शिकागो में भारत की राजदूत नीता भूषण जी, आचार्य डा. लोकेश मुनि जी, स्वस्ति श्री भट्टारक जी, स्वामी श्री श्रुतप्रज्ञ जी ने विशाल जनसमूह को संबोधित किया | शिकागो जैन सेंटर के चेयरमेन श्री अतुल शाह, अध्यक्ष श्री विपुल शाह ने नीता भूषण जी का स्वागत किया | शिकागो में भारत की राजदूत नीता भूषण ने रजत जयंती पर सभी पदाधिकारियों और जैन समाज को बधाई देते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति का अमेरिकी समाज पर सकारात्मक प्रभाव है | अति आधुनिक सुविधाओं युक्त अमेरिकी नागरिक भारत की योग, साधना और संस्कृति की ओर आकर्षित हो रहे है और उसे अपना रहे है | जैन सेंटर समाज में अहिंसा, शांति और सद्भावना स्थापित करते हुए अनेक समाज कल्याण के कार्यो में संलगन है इसके लिए वो प्रशंसा के पात्र हैं | पिछले अनेक वर्षो से आचार्य डा. लोकेश विश्व के कोने कोने में भारतीय संस्कृति और जैन दर्शन का प्रचार प्रसारकर विश्व जनमानस का कल्याण कर रहे है | आचार्य लोकेश मुनि भारत और हर भारतीय को गौरान्वित कर रहे है | विश्व शान्ति दूत आचार्य डा. लोकेश मुनि ने कहा कि हमें ख़ुशी है शिकागो जैन सेंटर के रजत जयंती समारोह में नीता भूषण जी ने भाग लेकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई | नीता भूषण जी बिहार की बेटी हैं और भगवान महावीर का जन्म भी बिहार में ही हुआ था | भगवान महावीर की शिक्षाओं का अनुसरण करने वाले अहिंसक जैन समुदाय का समाज के विकास और कल्याण में महत्वपूर्ण योगदान है | आज विश्व योग को अपना रहा है, योग जैन धर्म का अभिन्न अंग है, जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों की प्रतिमाये योग मुद्रा में है | शिकागो जैन सेंटर में विभिन्न कार्यक्रमों में 4000 से ज्यादा लोग प्रतिदिन आते है | शिकागो जैन सेंटर अमेरिका में जैन धर्म की महान प्रभावना के साथ साथ भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार में भी अग्रणीय है | इस अवसर पर नीता भूषण जी ने घोषणा की कि 2 जुलाई को शिकागो में भारतीय राजदूत में आचार्य डा. लोकेश मुनि जी का स्वागत और सम्मान होगा | इस अवसर पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन होगा |


Acharya Lokesh addressed the large gathering at Hindu Temple Chicago Religion should be associated with social welfare - Acharya Lokesh

26-06-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Jain Acharya Dr. Lokesh Muni as Chief Guest addressing a large gathering in Hindu Temple Greater Chicago said that associating religion with social welfare is the need of the present times. World welfare and world peace is possible through this. Mr. Tilak Marwah, President of Hindu Temple, Greater Chicago welcomed Acharya Lokesh Muni traditional manner. Former President Mr. Krishna Reddy introduced Acharya Dr. Lokesh Muni. Ambassador of Peace Acharya Lokesh speaking on ‘World without Violence’ said that religion brings us together it does not create differences. There can be no place for violence, hatred and disputes in the field of religion. All problems can be solved through dialogue. First of all, it is necessary that we learn to respect the existence and views of others, along with our own. There can be differences of opinions but not differences in hearts. We all want development and prosperity. Development and peace are deeply related. Acharya Dr Lokesh Muni said Karma is an important aspect of Hinduism. The law of karma in the Hinduism refers to a moral law which calls for social responsibility. The practice of dharma denotes a life of truth, non-violence, compassion, welfare for others and offering self-less service to society. He said that associating religion with social work for development and welfare is the need of present world. Acharya Lokesh said that religious organizations have been a powerful influence in American social welfare history. In many significant ways, religious organizations and churches have contributed to advancing more humane programs and policies concerning orphans, slaves, the poor, the sick and others in need of assistance. It is a matter of pride that Hindu Temple Grater Chicago is also involved in social welfare activities. Acharya Lokesh mentioned that India is an ocean of knowledge and art. India's centuries old yoga, meditation and natural medicine are wonderful gifts for world welfare. There are various artefacts’ in different regions of India, bringing them forward is in welfare of India and is in the interest of the world. Unity in diversity is a unique characteristic of Indian culture. Indian knowledge and art should reach different parts of the world and contribute towards world welfare. It is necessary to promote the ancient Indian civilization to the world.

आचार्य लोकेश ने हिन्दू टेम्पल शिकागो में सभा को संबोधित किया धर्म को समाज सेवा से जोड़ना वर्तमान की आवश्यकता– आचार्य लोकेश

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक प्रख्यात जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि ने मुख्य अतिथि के रूप में हिन्दू टेम्पल ग्रेटर शिकागो में विशाल समूह को संबोधित करते हुए कहा कि धर्म को समाज सेवा से जोड़ना वर्तमान की आवश्यकता है | इससे ही विश्व कल्याण और विश्व शांति संभव है | हिन्दू टेम्पल ग्रेटर शिकागो के अध्यक्ष श्री तिलक मारवाह ने आचार्य लोकेश मुनि का परंपरागत रूप से स्वागत किया | पूर्व अध्यक्ष श्री कृष्ण रेड्डी ने आचार्य डा. लोकेश मुनि का परिचय दिया | आचार्य डा. लोकेश मुनि ने कहा कि हिंदू धर्म में कर्म बेहद महत्वपूर्ण है | कर्म का विधान नैतिकता को संदर्भित करता है जो सामाजिक जिम्मेदारी निर्वाह करने के लिए कहता है| धर्म के मार्ग पर चलते हुए दूसरों के लिए सच्च, अहिंसा, करुणा, कल्याण का जीवन दर्शाता है और समाज को आत्म-सेवा प्रदान करता है | उन्होंने कहा धर्म को समाज सेवा से जोड़कर उसे सामाजिक कल्याण और विकास का मार्ग बनाना वर्तमान की आवश्यकता है | आचार्य लोकेश ने ‘हिंसा रहित विश्व’ पर वक्तव्य देते हुए कहा कि धर्म हमें जोड़ना सिखाता है तोड़ना नहीं| धर्म के क्षेत्र में हिंसा, घृणा और नफरत का कोई स्थान नहीं हो सकता| संवाद के द्वारा, वार्ता के द्वारा हर समस्या को बैठ कर सुलझाया जा सकता है| उसके लिए सबसे पहले जरूरी है, हम अपने अस्तित्व की तरह दूसरों के अस्तित्व का, विचारों का सम्मान करना सीखें| मतभेद हो सकते है किन्तु उसे मनभेद में न बदले| विश्व शांति और सद्भावना के लिए सबसे पहले जरुरी है हु विश्व को हिंसा रहित बनाये | हम सभी विकास चाहते है, समृद्धि चाहते है| विकास व शांति का गहरा सम्बन्ध है| आचार्य लोकेश ने कहा कि अमेरिकी इतिहास में धार्मिक संगठनों का सामाजिक कल्याण में एक महत्वपूर्ण प्रभाव रहा है| कई महत्वपूर्ण तरीकों से, धार्मिक संगठनों और चर्चों ने अनाथों, दासों, गरीबों, बीमारों और अन्य लोगों से सहायता के लिए अनेक मानवीय कार्यक्रमों और नीतियों को आगे बढ़ाने में योगदान दिया है| यह गौरव का विषय है कि हिन्दू टेम्पल ग्रेटर शिकागो भी अनेक मानव कल्याण की गतिविधियों को आगे बाधा रहा है| आचार्य लोकेश ने इस बात का उल्लेख किया कि कि भारत ज्ञान व कला का अथाह सागर है | भारत की सदियों पुरानी योग, साधना व प्राकृतिक चिकित्सा विश्व कल्याण के लिए अद्भुत उपहार है | भारत के विभिन्न प्रदेशों में अनेकों कलाएं है जिन्हें एक मंच पर लाना न सिर्फ भारत अपितु विश्व के हित में है | अनेकता में एकता भारतीय संस्कृति की विशेषता है | भारतीय ज्ञान व कला विश्व के कोने कोने तक पहुंचेगी और विश्व कल्याण में सहयोगी बनेगी | प्राचीन भारतीय सभ्यता को विश्व जनमानस तक ले जाना जरुरी है|


Acharya Lokesh inaugurates Chicago Jain Centre Silver Jubilee Jain Religion promotes Social Peace and Harmony - Gurudev Jinchandra Religion should be associated with social work – Acharya Lokesh

25-06-2018

Ambassador of Peace Jain Acharya Dr. Lokesh Muni addressing the inauguration ceremony of the Silver Jubilee of the Chicago Jain Centre said that from June 22 to July 1, 2018, the 25th anniversary of the Chicago Jain Centre will be celebrated with enthusiasm my best wishes and congratulations to all the workers and office bearers. Currently, about 70 Jain Centers through which Jain philosophy is being promoted for social welfare, they are all to be appreciated for their outstanding social works. The program was organized in collaboration with Indian Ambassador in Chicago. Gurudev Shri Jinchandra ji said that Jainism is a scientific religion, despite being ancient; it offers a solution to many present day problems. Presently we are face with three major global problems, climate change, violence and terrorism, poverty and inequality. The solution for all these problems is found in Jain philosophy promoted by Lord Mahavira. Jain Acharya Lokesh ji said that the Chicago Jain Center has the honor of being the first Shikharband Traditional Jain temple in America. Chicago Jain centre is doing remarkable social welfare works by associating religion with social welfare. The reciprocal harmony, coordination and unity of the members of the Chicago Jain Center are a motivational example. In the Chicago Jain Center, a wonderful confluence of tradition and innovation is found. On one hand, there are 24 attractive statues of the Jain Tirthankaras, on other hand open space is available for the vast auditorium with the most sophisticated resources, diverse rooms of knowledge, rich library, spacious dining room, parking and other modern facilities He appealed to the Jain devotees to come together and contribute to world peace and harmony efforts. Swastishri Bhattarak ji, Senator Sen Tom, Swami Shrishpragnag ji, Padmashree Dr. Kumar Pal Desai, Shri Sajan Shah, Shri Pramukh Bhai Bhakta, Hitesh Shah, Dr. Sanjeev ji, Goddha, Shri Deepak Bhai Shah, and other eminent people were present in the inaugural ceremony of Silver Jubilee celebrations which will continue for one week. Chairman Shri Atul Shah, President, Shri Vipul Shah welcomed everyone. With dedicated and tireless work is done with the Vice Chairman Mr. Hitesh Shah, Vice President Mr. Dilip Shah, General Secretary Mr. Piyush Gandhi, Himanshu Jain, Jignesh Jain, Surendra Shah, Tejas Shah, Vasant Shah, Dinesh Shah Silver Jubilee celebrations have been organised successfuly.

आचार्य लोकेश शिकागो जैन सेंटर की रजत जयंती समारोह का उदघाटन किया जैन धर्म का शांति व सद्भावना के प्रयासों में महत्वपूर्ण योगदान - गुरुदेव जिनचंद्र विश्व कल्याण के लिए धर्म को समाज सेवा से जोड़ना आवश्यक – आचार्य लोकेश

विश्व शान्ति दूत आचार्य डा. लोकेश मुनि ने शिकागो जैन सेंटर की रजत जयंती के उदघाटन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि 22 जून से 1 जुलाई 2018 तक, शिकागो जैन सेंटर की 25 वीं वर्षगांठ हर्षोल्लास के साथ मनाई जा रही है इसके लिए सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारीयों को हार्दिक शुभ कामनाएँ | अमेरिका में वर्तमान में लगभग 70 जैन केंद्र जिनके माध्यम से जैन दर्शन का समाज कल्याण के लिए प्रचार हो रहा है इसके लिए वो सभी प्रशंसा के पात्र हैं। कार्यक्रम का आयोजन शिकागो में भारतीय राजदूत के सहयोग से हुआ | जैन आचार्य लोकेश एवं गुरुदेव श्री जिनचंद्र जी ने कहा कि जैन धर्म एक वैज्ञानिक धर्म है, बहुत प्राचीन होने के बावजूद, यह मौजूदा युग की कई समस्याओं का समाधान प्रस्तुत करता है। वर्तमान में तीन प्रमुख वैश्विक समस्याएं, जलवायु परिवर्तन, हिंसा और आतंकवाद, गरीबी और असमानता है। इन सभी समस्याओं के लिए समाधान भगवान महावीर द्वारा प्रचारित जैन दर्शन में पाया जाता है| जैन आचार्य लोकेश एवं गुरुदेव श्री जिनचंद्र जी ने कहा कि शिकागो जैन सेंटर को अमेरिका में प्रथम शिखरबंध पारंपरिक जैन मंदिर होने का सम्मान प्राप्त है| शिकागो जैन सेंटर के सदस्यों का पारस्परिक सद्भाव, समन्वय और एकता एक प्रेरक उदाहरण हैं। शिकागो जैन सेंटर में परंपरा और ,नवाचार का एक अद्भुत संगम पाया जाता है। एक तरफ 24 तीर्थंकरों की मन मोहक प्रतिमायें है तो दूसरी और अत्याधुनिक संसाधनों से युक्त विशाल सभागार, ज्ञानशाला के विविध कक्ष, समृद्ध पुस्तकालय, विशाल भोजन कक्ष तथा पार्किंग आदि के लिए खुली जगह उपलब्ध है | उन्होंने आने वाले समय में जैन धर्मानुयायियों को एकजुट होकर विश्व शांति व सद्भावना के प्रयासों के लिए योगदान देने की अपील की | रजत जयंती समारोह के अंतर्गत एक सप्ताह तक चलने वाले विविध कार्यक्रमों के उदघाटन समारोह में स्वस्तिश्री भट्टारक जी, सीनेटर सेन टॉम, , स्वामी श्री श्रुतप्रज्ञ जी, पद्मश्री डा. कुमार पाल देसाई, श्री साजन शाह, श्री सन्मुख भाई भक्त, हितेश शाह, डा. संजीव जी गोधा, श्री दीपक भाई शाह, आदि विशिष्ठ महानुभाव उपस्थित रहे | चेयरमेन श्री अतुल शाह, अध्यक्ष श्री विपुल शाह ने सभी का स्वागत किया| वाईस चेयरमेन श्री हितेश शाह, उपाध्यक्ष श्री दिलीप शाह, महासचिव श्री पियूष गाँधी, हिमांशु जैन, जिग्नेश जैन, सुरेन्द्र शाह, तेजस शाह, वसंत शाह, दिनेश शाह के साथ समस्त कार्यकारिणी ने रजत जयंती समरोह को सफल बनाने में समर्पित भाव से अथक परिश्रम किया |


On International Yoga Day ‘Conversation on Yoga for Peace’ Event held at UN Headquarters Acharya Lokesh talks about Yoga for World Peace and Harmony Yoga is symbol of Global Unity, Peace and Harmony – Acharya Lokesh

24-06-2018

On the occasion of 4th International Yoga day ‘Conversation with Yoga Masters on Yoga for Peace’ a two day event was organised at United Nations Headquarters. The panellists Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni, Padmashri Dr. H. R. Nagendra founder vice chancellor of Swami Vivekananda Yoga Anusandhana Samsthana, Peace Activists Eric Bowman, War Veteran John Bennett, Acharya Srinivasan of Sivananda Yoga Centre, Founder Deaf Yoga Foundation Lila Lolling, Founder VR Mystics, Producer ‘A Better World’ Mitchell J Rabin talked about their experiences and how to establish peace and harmony through ancient science Yoga. The event was organised by Permanent Mission of India to UN and UN Department of Public Information. Eminent people from different parts of the world took part in the program. Ambassador of Peace Acharya Lokesh said that after announcing June 21 as International Yoga Day by United Nations from 2015 with efforts of India, it is celebrated every year with great enthusiasm round the world. The awareness for yoga has increased in last four years and people of countries, lifestyle, language and climates are united due to yoga. Where people living on the snowy hills are doing Yoga, people living in the deserts are also practicing Yoga. Despite the differentiation of language, color, religion, sect, profession, everyone wants to adapt yoga; they want to include yoga in their daily routine. Yoga is a symbol of global unity, peace and harmony. Acharya Lokesh said that the ancient science of Yoga continues to be practiced by millions across the globe as they are benefitted by Yoga. The regular practice of Yoga has a direct and visible impact on improving physical and mental health and contributes to wider social harmony wellbeing. Yoga promotes the practice of sustainable lifestyle leading to a better harmony between the people and the planet.

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में ‘शांति के लिए योग पर बातचीत’ सम्मलेन का आयोजन आचार्य लोकेश ने योग के माध्यम से विश्व शांति व सद्भावना को संबोधित किया योग वैश्विक एकता, शांति और सद्भावना का प्रतीक – आचार्य लोकेश

संयुक्त राष्ट्र न्यूयॉर्क में चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन ‘शांति के लिए योग पर योग गुरुओं से बातचीत’ में अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डा. लोकेश मुनि, स्वामी विवेकानंदा योग अनुसन्धान के संस्थापक कुलपति पद्मश्री डा. एच.आर.नागेन्द्र, शांति कार्यकर्त्ता एरिक बोमन, युद्ध के वयोवृद्ध जॉन बेनेट, शिव्नान्दा योग सेंटर में आचार्य श्रीनिवासन डेफ योग फाउंडेशन की संस्थापक लीला लोल्लिंग, वी.आर. मीस्टिक के संस्थापक मधुसुदन, ‘अ बेटर वर्ल्ड’ के निर्माता मिशेल जे. राबिन ने अपने अनुभवों के आधार पर चर्चा की कि किस प्रकार प्राचीन योग के माध्यम से समाज में शांति व सद्भावना स्थापित की जा सकती है | सम्मलेन का आयोजन संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई मिशन एवं संयुक्त राष्ट्र के सार्वजानिक जानकारी विभाग के तत्वाधान में हुआ | कार्यक्रम के विश्व के कोने कोने से आए विशिष्ठ लोगो ने भाग लिया | शान्तिदूत आचार्य लोकेश ने कहा भारत के प्रयासों से 21 जून को संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने के साथ ही 2015 से प्रतिवर्ष यह सम्पूर्ण विश्व में उत्साह के साथ मनाया जाता है | इससे योग के प्रति विश्व जनमानस में जागरूकता बढ़ी है और अलग अलग देशों, जीवनशैली, भाषा, क्षेत्रों के लोग एक सूत्र में योग के माध्यम से जुड़ गए है | जहाँ बर्फीली पहाड़ियों पर रहने वाले लोग योग आसन कर रहे है वही रेगिस्तान में रहने वाले लोगों ने भी योग को अपनाया है | भाषा, रंग, धर्म , सम्प्रदाय, व्यवसाय की विभुन्नता के बावजूद भी सभी का योग के प्रति आकर्षण है उसे सबने अपनी दिनचर्या में शामिल किया है | यह वैश्विक एकता, शांति और सद्भावना का प्रतीक है | आचार्य लोकेश ने इस अवसर पर कहा कि आज विश्व के कोने कोने में लोग प्राचीन विज्ञान योग को अपना रहे है क्योगी यह उनके लिए लाभदायक है | योग के नियमित अभ्यास का सीधा असर शारीरिक और मानसिक स्वस्थ की बेहतर बनाने में तो होता ही है साथ ही इससे समाज भी स्वस्थ होता है | सामाजिक सद्भाव और शांति उत्पन्न करने में योग का महत्वपूर्ण योगदान है | योग के माध्यम से स्वयं को वातावरण और आसपास के लोगो के अनुकूल बनाने से समाज स्वस्थ बनता है | योग सतत जीवनशैली की और ले जाता ही जिससे लोगो और समाज के साथ बेहतर तालमेल उत्पन्न होता है |


Acharya Lokesh addressed International Yoga Day at United Nations PM Narendra Modi gave video message on the occassion India plays important role in taking Yoga to International masses- Acharya Lokesh

22-06-2018

4th International Yoga day was celebrated with great enthusiasm at United Nations Headquarters in which thousands of people and many organisations from all over the world took part. The large gathering at the event proved that the popularity of Yoga is growing every year round the globe. His Holiness Acharya Lokesh Muni who has participated in 1st International Yoga Day at United Nations Headquarters with United Nations General Secretary Ban-Ki-Moon and External affairs Minister of India Smt. Sushma Swaraj also addressed 4th International Yoga Day at United Nations Headquarters in New York. Prime Minister of India gave video message on the occasion. Syed Akbaruddin India's permanent representative at the United Nations, Padmashri Dr. H. R. Nagendra founder vice chancellor of Swami Vivekananda Yoga Anusandhana Samsthana, Yogguru Swami Maheshwaranand ji, Indian Yoguru in USA Shri Amrit Desai, Brahmakumari Binni Sarin and Yoga experts from the corner of the globe lead the yog session and also addressed the gathering of thousands of people. Shri Narendra Modi in his video message said the Yoga is a state of equilibrium. Yoga is not a religion or physical exercises but a lifestyle. Doing our day to day activities with complete vigilance and awareness is yoga. Free from illness towards wellness is the path of yoga. Acharya Lokesh Muni said that India is playing an important role in taking Yoga to world masses. Yoga shows us the path towards making of supreme human, prosperous society and peaceful world. Yoga leads to internal and external peace. Yoga brings physical, mental and spiritual development in a person. Through Yoga Negative thinking is destroyed and positive thinking is formed through Yoga. Through yoga body, mind and soul moves ahead with positive works. Syed Akbaruddin on the occasion said that Yoga is symbol of Unity and strength. Countries from different parts of the worlds are coming together for Yoga. Making Yoga part of education can solve many global problems. Social and personal development is possible through yoga. Padma Shri H. R. Nagendra said that Yoga is very important in our daily life. By adapting Yoga in our daily life the dream of healthy, peaceful and prosperous life can become true. Yoga brings all round development of a person. In today’s busy and hectic life disease are easily caught, to overcome this yoga asans and pranayam should be part of our daily routine.

आचार्य लोकेश ने संयुक्त राष्ट्र में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को संबोधित किया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में विडियो सन्देश दिया विश्व के जनमानस तक योग को पहुँचाने में भारत की अहम् भूमिका – आचार्य लोकेश

संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को उत्साह के साथ मनाया गया जिसमें दुनिया भर के कई संगठनों व हजारों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में भारी संख्या में उपस्थित लोगो ने साबित किया कि योग की लोकप्रियता हर साल दुनिया भर में बढ़ रही है। परम पावन आचार्य लोकेश मुनि जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बन-की-मून यमन भारत की विदेश मंत्री श्रीमंती सुषमा स्वराज के साथ संयुक्त राष्ट्र संघ मुख्यालय में प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस में भाग लिया ने संयुक्त राष्ट्र संघ मुख्यालय न्युयार्क में आयोजित आयोजित चौथे अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को संबोधित किया| भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने इस अवसर पर वीडियो सन्देश दिया | संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन, स्वामी विवेकानंदा योग अनुसन्धान के संस्थापक कुलपति पद्मश्री डा. नागेन्द्र जी, योगगुरु स्वामी महेश्वरानन्द जी, अमेरिका में भारत के योगगुरु श्री अमृत देसाई, ब्रह्मकुमारी बिन्नी सरीन एवं विश्व के कोने कोने से पधारे योग विशेषज्ञों ने हजारों की संख्या में उपस्थित लोगो को योग कराया| अनेकों संस्थाओं के सहयोग से संयुक्त राष्ट्र संघ मुख्यालय पर आयोजित योग दिवस में लोगो ने न सिर्फ योग किया अपितो उपस्थित मह्नुभावों को मंत्रमुग्ध होकर सुना | श्री नरेंद्र मोदी ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि योग संतुलन की स्थिति है। योग कोई धर्म या शारीरिक व्यायाम नहीं यह एक जीवन शैली है जिसको अपनाने से स्वस्थ, शांतिप्रिय व समृद्ध जीवन की कल्पना साकार हो सकती है| पूर्ण सतर्कता और जागरूकता के साथ हमारी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को करना योग है। बीमारी से मुक्त होकर स्वस्थ जीवनशैली योग का मार्ग है। आचार्य डा. लोकेश मुनि ने इस अवसर पर कहा कि विश्व जनमानस तक योग को पहुँचाने में भारत की अहम् भूमिका है | योग से श्रेष्ठ मानव, समृद्ध समाज व शांतिप्रिय विश्व का निर्माण संभव है| योग से आन्तरिक व बाहरी शांति प्राप्त की जा सकती है| योग के माध्यम से नकारात्मक सोच नष्ट हो जाती है और सकारात्मक सोच योग के माध्यम से बनाई जाती है| योग शरीर के माध्यम से, मन और आत्मा सकारात्मक कार्यों के साथ आगे बढ़ती है। सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि योग एकता और ताकत का प्रतीक है| आज योग के माध्यम से विश्व के विभिन्न देश एक उद्देश्य से साथ जुड़े है | योग को शिक्षा से जोड़ने से अनेक वैश्विक समस्याओं का समाधान मुमकिन है| इससे व्यक्तिगत व सामाजिक विकास भी संभव है| पद्मश्री नागेन्द्र जी ने कहा कि योग का दैनिक जीवन में बड़ा महत्त्व है| योग से मनुष्य का शारीरिक, मानसिक व आध्यात्मिक विकास होता है| भागदौड़ भरी जिंदगी में बीमारियाँ भी अपना पैर पसार रही हैं इन सबके बीच मनुष्य को यदि स्वस्थ रहना है तो योग आसन प्राणायाम को अपने जीवन में स्थान देना होगा | योग मात्र शारीरिक क्रिया नहीं है, वरन् यह एक सम्पूर्ण जीवन शैली को सुधारने का नाम भी है।


Ahimsa Vishwa Bharti USA Chapter launched at New Jersey USA and India should work together for World Peace- Acharya Lokesh Acharya Lokesh warmly welcomed in New Jersey USA

17-06-2018

Ahimsa Vishwa Bharti Foundation USA was inaugurated by Ambassador of Peace Acharya Dr. Lokesh Muni, Chairman of Federation of Indian American Shri Ramesh Patel, President of Federation of Indian Americans Shri Surjal Parikha, Padma Shri Dr. Sudhir Parikh from Parikh Worldwide Media, Editor India Abroad Rajeev Bhambri, Chairman of Ahimsa Vishwa Bharti Foundation USA Shri Anil Monga, President of AVBF USA Shri Piyush Patel, Vice President of AVBF USA Shri Karamjeet Singh Dhaliwal, COO of AVBF USA Dr. Raj Bhayani and USA team of Ahimsa Vishwa Bharti at New Jersey. Acharya Lokesh on the occasion said that USA and India should work together for World Peace and Harmony. Ahimsa Vishwa Bharti Organisation has been continuously making efforts from last 13 years not only in India but internationally to establish Peace, Harmony, Non-Violence and Brotherhood, to encourage human values. We work with the aim to associate religion with social work to eradicate social evils and bring society welfare. I have been coming to USA from last one decade. Here I have seen not only people of Indian origin, but people from different parts of the world serving society in a selfless manner. Residents of USA are already associated with the social welfare activities of Ahimsa Vishwa Bharti, with the establishment of a chapter in USA working here will be enhanced. I appeal to all the workers of Ahimsa Vishwa Bharti to work with more enthusiasm and dedication. Shri Anil Kumar Monga on this occasion said that the Ahimsa Vishva Bharti organisation under the leadership of Acharya Lokesh Muni will work by associating religion with social work for establishing peace and harmony in the society and for social development. People of America will also get an opportunity to be associated with such efforts by Ahimsa Vishwa Bharti chapter in USA this is a matter of great pleasure. Shri Ramesh Patel welcoming Acharya Lokesh Muni and congratulating Ahimsa Vishwa Bharti team said that Acharya Lokesh Munihas been continuously making efforts to establish world peace, harmony and promotion of yoga. He is known as Ambassador of Peace and Ambassador of Indian Culture worldwide. Shri Piyush Patel and Shri Karamjeet Singh Dhaliwal said that the working of Ahimsa Vishwa Bharti Foundation awareness towards religion and human values will increase among people and youth of USA. They will get an opportunity to know the Indian culture and contribute in development of USA. Dr. Sudhir Parikh and Rajeev Bambri said that the Ahimsa Vishwa Bharti chapter in USA were long awaited. Our team here will support the working of AVB in different parts of world. On the occasion Community Leader Pradeep Kothari, Past President Asian Indian Americans Sunil Modi, Past President FIA Shri Ankur Vaidya, CEO USA TV News Hemant Kaushik, Shri Professor Bipin Sangankar, Shri Jeetu Bhai Fadiya, Shri Kanak Golia, Shri Snehal Bhai Shah, Bill Mackay, Symrise, Rajni B Monga, Aruna Ben Fadiya, Tarkeshwari Mishra, Jyoti Ben patel, Kyle Monga, Sean Monga, Jay Mandal, Smt Kirti Das from Singapore were also present.

अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा का न्यूजर्सी में उदघाटन विश्व शांति के लिए अमेरिका और भारत एकजुट हों – आचार्य लोकेश आचार्य लोकेश का अमेरिका के न्यूजर्सी शहर में भव्य स्वागत

शान्तिदूत आचार्य डा. लोकेश मुनि द्वारा स्थापित संस्था अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा का उदघाटन आचार्य लोकेश मुनि, फेडरेशन ऑफ़ इंडियन अमेरिकन के चेयरमैन श्री रमेश पटेल, अध्यक्ष श्री सूरज पारेख, पारेख वर्ल्डवाइड मीडिया से पद्मश्री डा. सुधीर पारेख, इंडिया अब्रॉड के एडिटर श्री राजीव भाम्बरी, अहिंसा विश्व भारती फाउंडेशन USA के चेयरमैन श्री अनिल कुमार मोंगा, अध्यक्ष श्री पियुष पटेल, उपाध्यक्ष श्री करमजीत सिंह ढालीवाल, डा. राज भयानि, एवं अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका टीम की उपस्थिति में न्यूजर्सी में हुआ | आचार्य लोकेश ने इस अवसर पर कहा कि विश्व शांति और सद्भावना के लिए अमेरिका और भारत को एकजुट होकर काम करना होगा | अहिंसा विश्व भारती संस्था का भारत में ही नहीं अपितु विश्व में अहिंसा, शांति एवं सद्भावना की स्थापना, मानवीय मूल्यों के उत्थान, चरित्र निर्माण के क्षेत्र में गत 13 वर्षों से निरंतर प्रयासरत है | अहिंसा विश्व भारती संस्था की स्थापना के पीछे विशेष उद्देश्य रहा है धर्म को समाज सेवा से जोड़कर, उसे सामाजिक बुराईयों के मिटाने का माध्यम बनाना | मैं पिछले एक दशक के अमेरिका आ रहा हूँ | यहाँ पर न सिर्फ भारतीय मूल के निवासियों अपितु विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से आये लोगो को समाज की निष्काम भाव से सेवा करते हुए मैंने देखा है | अहिंसा विश्व भारती की गतिविधियों से यहाँ के निवासी पहले से ही जुड़े हुए है, अब विधिवत रूप से अमेरिका में एक शाखा होने से हमारे सामाजिक सेवा और मानवीय कार्यों को गति मिलेगी | मैं समस्त कार्यकर्ताओं से आह्वान करता हूँ कि विश्व शांति व सद्भावना की स्थापना व समाज के उत्थान के लिए और अधिक उत्साह और कर्मठता के कार्य करे | श्री रमेश पटेल ने आचार्य लोकेश मुनि का स्वागत और अहिंसा विश्व भारती के कार्यकर्ताओं को शुभकामनाये देते हुए कहा कि आचार्य लोकेश मुनि ने विश्व शांति, सद्भावना व योग के प्रचार के लिए निरंतर प्रयासरत रहते है | समस्त विश्व उन्हें शांतिदूत के नाम से जानता है, वें भारतीय संस्कृति के राजदूत है | श्री अनिल कुमार मोंगा ने इस अवसर पर कहा कि अहिंसा विश्व भारती संस्था आचार्य लोकेश मुनि के नेतृत्व में धर्म को समाज सेवा से जोड़कर समाज में सौहार्द व विकास के लिए काम कर रही है | यह हर्ष का विषय है कि अमेरिका निवासियों को भी इसके साथ जुड़ने का अवसर मिलेगा| डा. सुधीर पारेख एवं श्री राजीव भाम्बरी ने कहा कि लम्बे समय से अहिंसा विश्व भारती नकी मेरिका शाखा का इन्तजार था | हम अमेरिका के साथ साथ विश्व के विभिन्न भागों में अहिंसा विश्व भारती के कार्यों को फ़ैलाने की दिशा में काम करेंगे | श्री पियुष पटेल एवं श्री करमजीत सिंह ढालीवाल ने कहा कि अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा के माध्यम से अमेरिका निवासियों व युवा पीढ़ी की धर्म के प्रति आस्था बढ़ेगी और आपसी सौहार्द व मानवी मूल्यों के प्रति जागरूकता फैलेगी | वो भारतीय संस्कृति से रूबरू होंगे और अमेरिका के विकास में अपना योगदान देंगे| इस अवसर पर अहिंसा विश्व भारती अमेरिका शाखा के संस्थापक सदस्य कम्युनिटी लीडर श्री प्रदीप कोठारी, एशियण इंडियन के पूर्व अध्यक्ष श्री सुनील मोदी, श्री अंकुर वैद्य, USA TV न्यूज़ के CEO हेमंत कौशिक, प्रो. बिपिन संगन्कर, जीतू भाई फाडिया, कनक गोलिया, श्री स्नेहल भाई शाह, बिल मेके, रजनी मोंगा, अरुण बेन फाडिया, तारकेश्वरी मिश्र, ज्योति बेन पटेल, क्य्ले मोंगा, सीन मोंगा, जय मोंगा भी उपस्थित थे |


Acharya Lokesh warmly welcomed on reaching Canada first time Acharya Lokesh will address various programs including the United Nations on International Yoga Day

09-06-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Acharya Dr. Lokesh Muni during World Peace and Harmony tour was warmly welcomed by the Toronto Convention Center, Swaminarayan Temple, Hindu Society Durga Temple and other organisations on reaching Canada first time on arrival in Canada. Eminent thinker, Ambassador of Peace Acharya Dr. Lokesh Muni while addressing the Indian community said that on the basis of your efforts, you have glorified India and Canada on the global horizon. He said that presently India is the world's fastest growing economy. Multicultural culture is its identity. Prime Minister of Canada recently came to India. Together India and Canada can fight against terrorism, violence and poverty. Acharya Lokesh said that the religion does not oppose development. When materialistic development is based on the foundation of spirituality, then life becomes a boon or else it becomes a curse. He appealed to the people of Indian origin to be associated with their motherland and culture and said that in present times of ideological and cultural pollution, we all have the responsibility of preserving and promoting the great Indian culture of sacrifice, humanity and unity in diversity. On the occasion Swami Amamd Setuji, Basant Chitra Gupta, Shri Chandra Shekhar, Shri Vinay Agarwal, Shri Vimal Jain welcomed Acharya Shri on behalf of different organisations. Ahimsa Vishwa Bharti spokesman said that Acharya Lokesh will participate in 'Interreligious prayer for Peace' organized in New York on June 13. On June 16, at a special ceremony in New Jersey, Indian Ambassador Sandeep Chakrabarty will welcome Acharya Lokesh Muni. On this occasion, Ahimsa Vishwa Bharti's US branch will also be inaugurated. Acharya Lokesh will participate in International Yoga Day held organised at United Nations Headquaters on 20th and 21st of June in New York and will send a message on yoga. Acharya Lokesh will address a special program organized jointly by the Embassy of India and the Vivekananda Center in Chicago on June 24. He will address the interfaith conference on June 30 under the Silver Jubilee celebrations of the Chicago Jain Center. On July 2 he will depart for India.

कनाडा आगमन पर आचार्य लोकेश का भव्य स्वागत अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर संयुक्त राष्ट्र संघ सहित विविध कार्यक्रमों में आचार्य लोकेश भाग लेंगे

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डॉ लोकेश मुनिजी का विश्व शांति सदभावना यात्रा के तहत प्रथम बार कनाडा आगमन पर टोरन्टो कन्वेंशन सेंटर, स्वामीनारायण मन्दिर, हिन्दू सोसायटी दुर्गा टेम्पल आदि संस्थानों द्वारा भव्य स्वागत किया गया| प्रखर चिंतक, अम्बेसडर आफ पीस आचार्य डॉ लोकेश मुनिजी ने भारतीय समुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा कि आपने अपने पुरुषार्थ के बल पर भारत व कनाडा का नाम विश्व क्षितिज पर रोशन किया है। उन्होंने कहा इस समय भारत विश्व की तेज़ी से उभरती अर्थ व्यवस्था है।बहुलतावादी संस्कृति उसकी पहचान है । पिछले दिनों कनाडा के प्रधानमंत्री भारत आए थे।भारत व कनाडा मिलकर आतंकवाद हिंसा व ग़रीबी के ख़िलाफ़ लड़ सकते है। आचार्य लोकेश ने कहा कि धर्म का विकास से विरोध नहीं है | भौतिक विकास अध्यात्म की नींव आधारित होता है तब जीवन में वरदान बनता है वरना अभिशाप बन जाता है | उन्होंने भारतीय मूल के लोगों को अपनी माटी व संस्कृति से जुड़े रहने का आव्हान करते हुए कहा कि वैचारिक व सांस्कृतिक प्रदूषण के दौर में अनेकता मे एकता वाली महान त्याग व सेवा मयी भारतीय संस्कृति के संरक्षण व संवर्धन का हम सबका दायित्व है| इस अवसर पर स्वामी आनन्द सेतुजी, बसंत चित्रा गुप्ताजी श्री चन्द्र शेखरजी, श्री विनय अग्रवालजी, श्री विमल जैनजी आदि ने विविध संस्थाओं की ओर से आचार्य प्रवर का भावपूर्ण स्वागत किया | अहिंसा विश्व भारती प्रवक्ता ने बताया कि आचार्य लोकेश 13 जून को न्यूयॉर्क में आयोजित ‘शांति के लिए अंतरधार्मिक प्रार्थना’ में भाग लेंगे |16 जून को न्यूजर्सी में एक विशिष्ठ समारोह में न्यूयॉर्क में भारत के राजदूत संदीप चक्रबर्ती आचार्य लोकेश मुनि का स्वागत करेंगे | इस अवसर पर अहिंसा विश्व भारती की अमेरिका शाखा का शुभारम्भ भी होगा | आचार्य लोकेश 20 व 21 जून को संयुक्त राष्ट्र संघ न्यूयॉर्क में आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस में भाग लेंगे और योग पर सन्देश देंगे | शिकागो में भारत के दूतावास एवं विवेकानन्द सेंटर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित एक विशेष कार्यक्रम को आचार्य लोकेश 24 जून को संबोधित करेंगे व शिकागो जैन सेंटर की रजत जयंती समारोह के अंतर्गत 30 जून को आयोजित अंतरधार्मिक सम्मेलन को आचार्य लोकेश संबोधित करेंगे।तथा 2 जुलाई को भारत हेतु प्रस्थान करेंगे।


Acharya Lokesh addressed International Interfaith Conference in Vienna Spirituality and Science work for Human Development – Achrarya Lokesh

27-02-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Jain Acharya Dr. Lokesh Muni representing Jain Religion addressed the Interreligious Dialogue for Peace: Promoting Peaceful existence & Common Citizenship’ conference organized by KAICIID (King Abdullah Bin Abdulaziz International Centre for Interreligious and Intercultural Dialogue in Vienna, Austria. Acharya Lokesh also presented his view in the regular session of KAICIID Advisory Form as honorable member. Acharya Lokesh addressing the conference said that religion created civilizations; religion was the glue that held societies together. All religions of the world preach unity, brotherhood and harmony. Spirituality and religion both have given important contribution for development of human civilizations. There is a need to understand religion in its real sense and make the masses understand the essence of religion. Religion should be studied as social science. Violence, hatred, differences in the name of religion is not justified. Peace is necessary for development. Religious unity and harmony will create world peace and harmony. Coordination between religion and science will support balanced development of society. Acharya Lokesh said that from the Christian Crusades to the Paris attacks, countless conflicts and acts of violence have been claimed to be result of differing religious beliefs. On the name of religions, caste and community innocent people are killed in counties like Syria, Pakistan, Afganistan, Iran, Iraq, Bangladesh, France, and Russia every day. There is a need for interfaith dialogue in such situations, as violence and terrorism cannot solve any problem. Violence gives rise to counter violence. It was said that violence first takes place in mind and then in action. There is need to give peace training to the human minds. Acharya Lokesh talking about Indian Culture said that India welcomed followers of all religions with open heart. India gives freedom to worship and perform rituals to all religions. Jain philosophy based on principles of non-violence, unity in diversity and non-possession can solve many global problems like violence, environment pollution and inequality. Jain philosophy is contemporary and we need to adapt it to solve present day problems. General Secretary of KAICIID Faisal Bin Muaammar said that through this platform, we will set a visible, tangible example of interreligious cooperation. People need to see that religious communities, working together, are much stronger than any extremists, and that cooperation brings concrete benefits to everyone. Acharya Lokesh on the occasion discussed world peace with religious leaders and representatives of various communities.

आचार्य लोकेश ने वियाना में अन्तर्राष्ट्रीय अंतर धार्मिक सम्मेलन को संबोधित किया अध्यात्म और विज्ञान का मानवता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान – आचार्य लोकेश

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि ने ऑस्ट्रिया के वियाना शहर में KAICIID द्वारा आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय अंतरधार्मिक सम्मेलन ‘शांति के लिए अंतरधार्मिक संवाद : शांतिपूर्ण अस्तित्व और सामान नागरिकता’ को जैन प्रतिनिधि के रूप में संबोधित किया | आचार्य लोकेश ने KAICIID सलाहकार समिति के सम्मानित सदस्य के रूप में सलाहकार समिति की बैठक में धार्मिक एकता और सर्वधर्म सद्भाव पर वक्तव्य दिया | आचार्य लोकेश ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि धर्म ने सभ्यतों का निर्माण किया है | धर्म के माध्यम के समाज एकजूट होता है | विश्व के सभी धर्म एकता, भाईचारा और सद्भावना का मार्ग प्रशस्त करते है | अध्यात्म और विज्ञान दोनों ने मानव सभ्यता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है | जरूरत है धर्म को एक सामाजिक विज्ञान के रूप में समझने की | धर्म के नाम पर हिंसा, नफरत, भेदभाव किसी भी दृष्टि से उचित नहीं है | विकास के लिए शांति आवश्यक है और धार्मिक एकता व सद्भाव से ही विश्व शांति स्थापित होगी | धर्म और विज्ञान के समन्वय से ही मानवता का संतुलित विकास संभव है | आचार्य लोकेश ने कहा कि ईसाई धर्म युद्ध से पेरिस के हमलों तक धार्मिक मान्यताओं के परिणाम स्वरुप असंख्य संघर्ष और विवाद हुए है | हर दिन सीरिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, ईराक, बांग्लादेश, फ़्रांस, रूस जैसे देशों में धर्म, जाति और समुदाय के नाम पर निर्दोष लोग मारे जाते है | ऐसे में जरुरत है अंतर धार्मिक संवाद की, हिंसा और आतंकवाद किसी समस्या का समाधान नहीं | हिंसा प्रतिहिंसा को उत्पन्न करती है | हिंसा पहले मस्तिष्क में उत्पन्न होती है | जरुरत है मस्तिष्क अहिंसा व शांति के लिए शिक्षित करने की | आचार्य लोकेश ने भारतीय संस्कृति का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत ने सभी धर्मों के अनुयायियों को अपनाया है और सभी को अपमे धर्म के रीति रिवाजों के अनुसार पूजा अर्चना करने की पूर्ण आजादी है | जैन दर्शन अहिंसा, अनेकांत व अपरिग्रह के आदर्शों पर आधारित है जिसको अपनाने से अनेक वैश्विक समस्याए जैसे हिंसा, पर्यावरण प्रदूषण, असमानता आदि का समाधान संभव है | जैन दर्शन समसामयिक है, जिसकी जितनी पहले जरुरत थी उससे ज्यादा वर्तमान समय में जरुरत है | KAICIID के महासचिव फैसल बिन मुआम्मर ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि इस मंच से विभिन्न धर्मों के प्रतिनिधि एकजूट होकर समाज में सहस्तितिव, भाईचारा और सद्भावना की मिशल कायम करेंगे | हमारा उद्देश्य धर्म को विश्व शांति व विकास का माध्यम बनाना है | इस अवसर पर आचार्य लोकेश ने विभिन्न धर्मों के गुरुओं व विभिन्न सम्प्रदायों के प्रतिनिधियों से विश्व शांति पर चर्चा की |


Acharya Lokesh leaves for World Peace and Harmony Tour to Europe H.H. Pope will discuss World Peace and Religious Harmony with Acharya Lokesh Acharya Lokesh with address Interfaith Conference in Austria and Switzerland

23-02-2018

Founder of Ahimsa Vishwa Bharti Jain Acharya Dr. Lokesh Muni will leave for World Peace and Harmony Tour to Europe on Sunday February 25, 2018 from New Delhi International Airport. He will address International Conference ‘Interreligious Dialogue for Peace: Promoting Peaceful existence & Common Citizenship’ on 26-27 February in Vienna, Austria organized by at KAICIID (King Abdullah Bin Abdulaziz International Centre for Interreligious and Intercultural Dialogue). Acharya Lokesh Muni is the honorable member of KAICIID Advisory Forum he will represent Jain religion in the regular session of KAICIID Advisory Form to be held on 28 February. A joint action plan to lead the way in repairing the divisions created by extremists and rebuilt social harmony is under consideration in the conference. Acharya Lokesh Muni will hold a historical meeting of religious harmony with His Holiness Pope Francis at Vatican City on 7 March to discuss World Peace and Harmony. Acharya along with an international delegation will have Personal Audience with H.H. Pope. The delegation will meet Pontifical Council of Inter-Religious Dialogue (PCID) and will go for a guided tour of St. Peter’s Baslica and Vatican Museum. Acharya Lokesh addressing the gathering at Acharya Lokesh Ashram in Karol Bagh said that dialogue with supreme religious leader of Christian community in the whole world Pope at Vatican City and address at Interreligious Conference by KAICIID will be an historical step towards world peace and harmony. My aim is to take Indian culture of love, brotherhood and religious harmony to different parts of the world so that international masses adapt it and move ahead towards establishing world peace. I will discuss World Peace and Harmony through interreligious harmony with H.H. Pope and at KAICIID. Archbishop Giam Battista Diquattro, Apostolic Nuncio to India gave the special message of H.H. Pope to Acharya Lokesh Muni at the Ashram. Acharya will address interfaith seminars from 1-4 March in Switzerland. He will also celebrate Indian Festival of colors and mutual brotherhood Holi in historic Gurudwara of Switzeland.

आचार्य लोकेश विश्व शांति व सद्भावना यात्रा पर यूरोप के लिए रवाना परम पावन पोप फ्रांसिस से आचार्य लोकेश सर्वधर्म सद्भाव पर चर्चा करेंगे आचार्य लोकेश ऑस्ट्रिया व स्विटज़रलैंड में अंतरधार्मिक सम्मेलन को संबोधित करेंगे

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि विश्व शांति व सद्भावना यात्रा पर यूरोप के लिए रविवार 25 फरवरी को नई दिल्ली अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से रवाना होंगे | आचार्य लोकेश KAICIID द्वारा वियना ऑस्ट्रिया में आयोजित ‘शांति के लिए अंतरधार्मिक संवाद : शांतिपूर्ण अस्तित्व और सामान नागरिकता’ अन्तर्राष्ट्रीय अंतरधार्मिक सम्मेलन को 26-27 फरवरी संबोधित करेंगे | आचार्य लोकेश KAICIID सलाहकार समिति के सदस्य है , वो 28 फरवरी को KAICIID सलाहकार समिति के सम्मानित सदस्य के रूप में जैन धर्म का प्रतिनिधित्व करते हुए सलाहकार समिति की बैठक को संबोधित करेंगे | सम्मेलन में विश्व शांति व धार्मिक सद्भाव के लिए संयुक्त कार्य योजना पर विचार विमर्श होगा | आचार्य लोकेश वैटिकन सिटी में परम पवन पोप फ्रांसिस से भेंट कर विश्व शांति और धार्मिक सद्भाव पर चर्चा करेंगे | 7 मार्च को होने वाले इस ऐतिहासिक अंतरधार्मिक संवाद में अन्तर्राष्ट्रीय शिष्ठमंडल आचार्य लोकेश मुनि के साथ रहेगा | शिष्ठमंडल पोंटीफिक्ल काउंसिल ऑफ़ इंटर रिलिजन डायलॉग से 6 मार्च को भेंट करेगा साथ में सेंट पीटर चर्च और वैटिकन संग्रालय का अवलोकन करेगा | आचार्य लोकेश ने करोल बाग स्थित आचार्य लोकेश आश्रम में सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सम्पूर्ण विश्व में ईसाई समुदाय के सर्वोच्च धर्मगुरु पोप से वार्ता और KAICIID द्वारा आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय अंतरधार्मिक सम्मेलन में संबोधन, विश्व शांति व सद्भावना के क्षेत्र में ऐतिहासिक कदम है | मेरा उद्देश्य भारत की प्रेम, भाईचारे व धार्मिक सद्भाव की संस्कृति को विश्व के कोने कोने तक ले जाना है ताकि वैश्विक जनता इस संस्कृति को अपनाकर विश्व शांति की ओर आगे बढ़े | परम पवन पोप के साथ संवाद एवं KAICIID सम्मेलन के माध्यम से मैं अंतर धार्मिक संवाद द्वारा विश्व शांति व सद्भावना की स्थापना पर चर्चा करूँगा | भारत में अपोस्टोलिक नानशिया आर्चबिशप गियाम बटिस्टा डायकट्रो ने आचार्य लोकेश मुनि को परम पवन पोप का विशेष सन्देश दिया | आचार्य लोकेश 1 से 4 मार्च तक स्विटज़रलैंड में अंतरधार्मिक सम्मेलनों को संबोधित करेंगे और रंगों, एकता व सद्भावना के त्यौहार होली को स्विटज़रलैंड के ऐतिहासिक गुरुद्वारे में मनाएंगे |


Meeting with Rajnath Singh

01-02-2013

श्री राजनाथ सिंह ने आचार्य लोकेश मुनि के नेतृत्व अहिंसा विश्व भारती संस्था दुवारा किए जा रहे समाजपयोगी कार्यो की सराहना करते हुए कहा की विकास के लिऐ अवश्यक है,अहिंसा ही शांति और समृद्धि का मूलमंत्र है, उन्होने शिष्ट मंडल को असावशान दिया की भारती जनता पार्टीआगामी विधान सभा और लोक सभा जैन समाज की उचित प्रतिनिधित्व देगी ! अहिंसा विश्व भर्ती के संस्थापक आचार्य लोकेश मुनि कहा की जैन धर्म के सिद्धत विज्ञान की कसौटी पर खरे उतरते है वे समाज में अहिंसा, शांति, सद्धभावना की स्थापना तथा पर्यावरण की रक्षा कि लिए अत्यंत उपयोगी है अहिंसा और शांतिप्रिय जैन समाज का राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान है उसे नज़र अंदाज नहीं करना चाहिए ! उन्होने खा भगवान महावीर का अनेकान्त दर्शन संवाद के दुवारा हर समस्या को सुलझाने का मार्ग प्रशस्त करता है इस अवसर पर शिष्ट मंडल के सदस्य श्री मनोज जैन, श्री,सुबोध जैन, श्री राजेश जैन, श्रीमति केनू अग्रवाल, श्रीमती अर्चना जैन, ने श्री राजनाथ सिंह को भगवान महावीर की प्रतिमा भेंट करते हुए भारतीय जनता पार्टी के राष्टीय अध्यक्ष निर्वाचित होने पर हार्दिक बधाई दी तथा अगामी चुनावों में जैन समाज को उचित प्रतिनिधित्व देने की मांग की

Meeting with Rajnath Singh

श्री राजनाथ सिंह ने आचार्य लोकेश मुनि के नेतृत्व अहिंसा विश्व भारती संस्था दुवारा किए जा रहे समाजपयोगी कार्यो की सराहना करते हुए कहा की विकास के लिऐ अवश्यक है,अहिंसा ही शांति और समृद्धि का मूलमंत्र है, उन्होने शिष्ट मंडल को असावशान दिया की भारती जनता पार्टीआगामी विधान सभा और लोक सभा जैन समाज की उचित प्रतिनिधित्व देगी ! अहिंसा विश्व भर्ती के संस्थापक आचार्य लोकेश मुनि कहा की जैन धर्म के सिद्धत विज्ञान की कसौटी पर खरे उतरते है वे समाज में अहिंसा, शांति, सद्धभावना की स्थापना तथा पर्यावरण की रक्षा कि लिए अत्यंत उपयोगी है अहिंसा और शांतिप्रिय जैन समाज का राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान है उसे नज़र अंदाज नहीं करना चाहिए ! उन्होने खा भगवान महावीर का अनेकान्त दर्शन संवाद के दुवारा हर समस्या को सुलझाने का मार्ग प्रशस्त करता है इस अवसर पर शिष्ट मंडल के सदस्य श्री मनोज जैन, श्री,सुबोध जैन, श्री राजेश जैन, श्रीमति केनू अग्रवाल, श्रीमती अर्चना जैन, ने श्री राजनाथ सिंह को भगवान महावीर की प्रतिमा भेंट करते हुए भारतीय जनता पार्टी के राष्टीय अध्यक्ष निर्वाचित होने पर हार्दिक बधाई दी तथा अगामी चुनावों में जैन समाज को उचित प्रतिनिधित्व देने की मांग की


Acharya Lokesh Muni to get National Communal Harmony Award 2010

25-11-2011

For the year 2010, Acharya Lokesh Muni of Delhi has been selected for the National Communal Harmony Award by the Jury headed by the Hon’ble Vice-President of India in the individual category. The award carries a citation and Rs. 2.00 lakh for the individual. The Jury did not find any organization suitable for this award for the year 2010. Aged 49, Acharya Lokesh Muni is a writer, orator, and social worker. He is the chief functionary of Ahimsa Vishwa Bharati, a Delhi based voluntary organisation which aims at promoting non-violence, peace, communal harmony, working against female foeticide & drug addiction, providing help during natural calamities, etc. Acharya Lokesh Muni worked to de-escalate Hindu Muslim strife after the Jama Masjid explosion in 2006-07 and tension between Dera Sacha Sauda and the Sikh community in 2007. He participated in a 1500 km walk from Haryana to Gujarat to promote communal harmony. Shri Muni studied Jainism, Buddhism and Vedic philosophy and has 12 books to his credit on subjects like female foeticide, terrorism, principles of peace and brotherhood. For his academic pursuits, the Indian Board of Alternative Medicines awarded him the Doctor of Philosophy. He has also been honored with the Naitik Samman by the Gulzarilal Nanda Foundation and Bhaskar Puraskar by Bharat Nirman Sangathan for his contribution in restoring human values of peace and brotherhood. The National Communal Harmony Awards were instituted in 1996 by the National Foundation for Communal Harmony (NFCH), an autonomous organisation set up by the Government of India, Ministry of Home Affairs, for promoting communal harmony and national integration. The award has been instituted with a view to demonstrating due appreciation and recognition of the efforts of individuals and organizations for the promotion of communal harmony and national integration in a sustained manner over a sufficiently long period of time.